विज्ञापन
विज्ञापन

उत्तराखंड: विधानसभा के शीतकालीन सत्र में न सरकार में दिखी धार, न विपक्ष में पैनापन 

अरुणेश पठानिया, अमर उजाला, देहरादून Updated Sat, 08 Dec 2018 02:52 PM IST
uttarakhand assembly
uttarakhand assembly
ख़बर सुनें
विधानसभा के शीतकालीन सत्र में न तो सत्ता पक्ष में धार दिखी न ही विपक्ष के तेवरों में पैनापन नजर आया। चार दिन चले इस सत्र में विपक्ष जन सरोकार के मुद्दों को प्रभावी ढंग नहीं उठा पाया। कांग्रेसी सदस्यों ने सनसनी फैलाने के कोशिश की, लेकिन विपक्ष की असल भूमिका में एक बार फिर भाजपा विधायक ही दिखे। ‘अपनों’ के तीखे सवालों पर ट्रेजरी बेंच में केवल प्रकाश पंत ही सरकार की लाज बचाते दिखे जबकि बिना अध्ययन के पहुंचे अधिकांश मंत्रियों की खूब किरकिरी हुई। 
विज्ञापन
विज्ञापन
सत्र में सरकार ने 2452.41 करोड़ का अनुपूरक बजट करवाने के साथ कई विधेयक पास करवाए। सदन में प्रचंड बहुमत के चलते सरकार के लिए यह कतई मुश्किल भी नहीं था। इसके अलावा सदन में सरकार और विपक्ष एक हिचकोले खाती किश्ती पर सवार दिखे, जबकि भाजपा विधायकों ने इस किश्ती जमकर सवारी की। प्रश्नकाल से लेकर नियमों के तहत हुई चर्चाओं में कांग्रेस से कहीं अधिक भाजपा विधायकों ने ट्रेजरी बेंच की मुश्किलें बढ़ार्इं। विपक्ष का आलम यह रहा कि बेशकीमती एक दिन उन्होंने सदन के बाहर एक विधायक से सुरक्षा कर्मियों की हुई कहासुनी पर नाराजगी दिखाने में ही निकाल दिया। 

प्रदेश में दो ही मुद्दे लोकायुक्त और गैरसैंण 
कांग्रेस एक बार फिर लोकायुक्त और गैरसैंण पर ही फोकस दिखी। सत्ता पक्ष को इन मुद्दों पर हर बार विपक्ष घेरने की कोशिश करता है, जबकि उसे इसके परिणाम का पहले से अंदाजा है। सरकार ने हर बार की तरह इस बार भी दोनों मुद्दों पर वही जवाब दिया और विपक्ष ने उसी अंदाज में वॉकआउट किया। अंतर केवल इतना रहा कि इस बार नेता प्रतिपत्र इंदिरा हृदयेश ने लोकायुक्त के साथ स्टिंग प्रकरण को जोड़ने की कोशिश की। 

न सेहत की बात न कानून-व्यवस्था की फिक्र 
पहाड़ में गर्ववती महिलाओं की प्रसव के दौरान स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिलने और सड़क पर होने वाले प्रसव विपक्ष के लिए कोई मुद्दा ही नहीं बन सके। स्वास्थ्य के क्षेत्र में कमजोर स्थिति पर कोई मुद्दा नहीं आया। सिर्फ केदारनाथ विधायक मनोज रावत ने गैरसैंण पर चर्चा के दौरान इसका जिक्र किया। राजधानी में लूट की घटनाओं के बावजूद कानून व्यवस्था मुद्दा नहीं बना।

अध्यक्ष की नसीहत भी बेअसर 
प्रश्न प्रहर में सवालों के जवाब देने में कई मंत्रियों की सत्र के दौरान किरकिरी हुई। स्पीकर प्रेमचंद अग्रवाल की मंत्रियों को होमवर्क कर की नसीहत भी काम नहीं आई। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय, पशुपालन राज्यमंत्री रेखा आर्य, शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक को भाजपा विधायकों ने ही कई सवालों पर निरुत्तर कर दिया। 

Recommended

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।
UP Board 2019

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019
ज्योतिष समाधान

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव में किस सीट पर बदल रहे समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पढ़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Dehradun

कोर्ट का फैसला, तलाक के बाद भी दर्ज हो सकता आर्थिक और घरेलू हिंसा का मुकदमा

महिलाएं तलाक के बाद भी घरेलू हिंसा का मुकदमा दर्ज कर परिवार के भरण पोषण का दावा अदालत में कर सकती हैं।

22 अप्रैल 2019

विज्ञापन

हरिद्वार के पास दो हाथियों की मौत, ट्रेन की चपेट में आने से गई जान

शुक्रवार को हरिद्वार के पास नंदा देवी एक्सप्रेस की चपेट में आने से दो हाथियों की मौत की खबर सामने आई है। वन अधिकारियों का कहना है कि ये हादसा सुबह लगभग 5 बजे के करीब हुआ। सूचना मिलने के बाद वन अधिकारियों ने दोनों हाथियों का पोस्टमार्टम किया।

19 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election