विज्ञापन
विज्ञापन

उत्तराखंड: रिजल्ट घोषित न होने से पोस्ट ग्रेजुएशन में दाखिला नहीं ले पाए आठ हजार छात्र

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Wed, 11 Sep 2019 08:25 AM IST
Uttarakhand 8000 Students not get Admission in Postgraduate due to result not declared
- फोटो : प्रतीकात्मक तस्वीर
ख़बर सुनें
उत्तराखंड के कई विवि में ग्रेजुएशन का रिजल्ट घोषित न होने के कारण प्रदेश में आठ हजार से ज्यादा छात्र पोस्ट ग्रेजुएशन में दाखिलों से वंचित रह गए हैं। मौजूदा हालात में इन छात्रों का साल बर्बाद होने की स्थिति बनी हुई है। उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय के पीजी दाखिलों की अंतिम तिथि खत्म हो चुकी है।
विज्ञापन
प्रदेश में दो साल पहले प्राइवेट परीक्षाएं खत्म होने और रेगुलर कॉलेजों में पीजी की कम सीटों के चलते पीजी दाखिलों का भार मुक्त विवि पर बढ़ गया था। गत वर्ष कुछ पाठ्यक्रमों की मान्यता न मिलने की वजह से छात्रों का साल बर्बाद हुआ था।

इस साल श्रीदेव सुमन विवि, कुमाऊं विवि, गढ़वाल विवि में ग्रेजुएशन अंतिम वर्ष का परिणाम न आने की वजह से पीजी दाखिलों का मौका हाथ से निकल गया है। अभी तक ग्रेजुएशन अंतिम वर्ष के आठ हजार से ज्यादा छात्रों का परिणाम नहीं आया है। रेगुलर कॉलेजों में पीजी की दाखिला प्रक्रिया संपन्न हो चुकी है। मुक्त विवि में दाखिले बंद होने के बाद छात्र परेशान भटक रहे हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

मुक्त विवि में इन पीजी कोर्स में होते हैं एडमिशन

विज्ञापन

Recommended

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय
Invertis university

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Shimla

हिमाचल के स्कूलों में पढ़ाया जाएगा शेयर मार्केट का पाठ

हिमाचल प्रदेश के विद्यार्थियों को शेयर बाजार की भाषा और उसमें निवेश की बारीकियों से अवगत करवाया जाएगा।

21 सितंबर 2019

विज्ञापन

प्रयागराज में बाढ़ का कहर, दाह संस्कार और पिंडदान सड़कों पर करने को मजबूर हैं लोग

प्रयागराज गंगा और यमुना ने भारी तबाही मचाई है। सड़क, दुकान, मकान सभी बाढ़ के पानी में डूब चुके हैं। घाट भी पानी में डूब गए हैं। शवों का अंतिम संस्कार भी घाटों की बजाए सड़कों पर हो रहा है।

21 सितंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree