विज्ञापन
विज्ञापन

उत्तराखंड: सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड के सभी स्कूलों में अनिवार्य होगी संस्कृत की पढ़ाई

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Wed, 18 Sep 2019 08:29 AM IST
Sanskrit education will be compulsory in all private schools of uttarakhand
- फोटो : प्रतीकात्मक तस्वीर
ख़बर सुनें

खास बातें

  • निर्देश का पालन न करने वाले स्कूलों की मान्यता समाप्त करने संबंधी होगी कार्यवाही।
  • विषय के बेरोजगार शिक्षकों को काम मिलेगा।
प्रदेश के निजी स्कूलों में अब सरकारी स्कूलों की तर्ज पर संस्कृत शिक्षा को अनिवार्य रूप में पढ़ाया जाएगा। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने मंगलवार को इस आशय का शासनादेश जारी करने के निर्देश शिक्षा सचिव को दिए है। शिक्षा मंत्री ने कहा कि संस्कृत को सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड के स्कूलों के लिए भी अनिवार्य किया जाएगा। 
विज्ञापन
शिक्षा मंत्री ने कहा कि संस्कृत हमारी द्वितीय राजभाषा है। इसे बढ़ावा देने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी के जन्मदिन से समस्त स्कूलों में अनिवार्य करने के निर्देश दिए गए हैं। अगले शिक्षा सत्र से इसे अनिवार्य विषय के रूप से हर स्कूल में पढ़ाया जाएगा।

सरकार के निर्देश का पालन न करने वाले स्कूलों की मान्यता समाप्त करने संबंधी कार्यवाही की जाएगी। शिक्षा मंत्री ने कहा कि संस्कृत शिक्षा को स्कूलों में पढ़ाए जाने से द्वितीय राजभाषा को बढ़ावा मिलेगा।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन
Oppo Reno2

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Himachal Pradesh

बोर्ड ने टेट के लिए जारी किया शेड्यूल, नवंबर माह में होगा टेट

राज्य स्कूल शिक्षा बोर्ड ने नवंबर में होने वाले टेट (अध्यापक पात्रता परीक्षा) का शेड्यूल जारी कर दिया है।

17 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

अयोध्या केस की कवरेज पर NBSA ने जारी की एडवाइजरी, टीवी चैनलों को दिया सख्त निर्देश

अयोध्या केस की कवरेज पर एनबीएसए ने टीवी चैनलों को एडवायजरी जारी की है। एडवायजरी में एनबीएसए ने क्या कुछ कहा है देखिए ये रिपोर्ट

17 अक्टूबर 2019

Related

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree