International Youth Day: देवभूमि के शैलेश ने अमेरिका में देश का नाम किया रोशन, 22 घंटे बैकअप देने वाली बैटरी बनाई

भूपाल बोरा, अमर उजाला, सोमेश्वर (अल्मोड़ा) Updated Wed, 12 Aug 2020 03:29 PM IST
विज्ञापन
डॉ. शैलेश उप्रेती
डॉ. शैलेश उप्रेती

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

सार

  • युवा वैज्ञानिक डा. शैलेश की कपंनी ने 22 घंटे बैकअप देने वाली बैटरी बनाई
  • पांच लाख डॉलर का मिला था पुरस्कार
  • यूएस में कई लोगों को रोजगार दिया

विस्तार

पहाड़ के कई युवा विदेशों में नाम कमा रहे हैं। उत्तराखंड की अल्मोड़ा तहसील के मनान क्षेत्र के तल्ला ज्यूला गांव निवासी युवा वैज्ञानिक और उद्यमी डॉ. शैलेश उप्रेती की कंपनी ने 20 से 22 घंटे बैकअप देने वाली बैटरी का निर्माण किया है।
विज्ञापन

जिसके लिए उनकी कंपनी को 2016 में पांच लाख डॉलर पुरस्कार भी मिल चुका है। वह अमेरिका में कई लोगों को रोजगार भी दे रहे हैं। 2016 में अमेरिका में हुई स्वच्छ तकनीकी व्यापार प्रतियोगिता में उनकी कंपनी सीसीसीवी ने जीती थी।
न्यूयार्क के तत्कालीन लेफ्टिनेंट गवर्नर कैथलीन होचूल ने डा. शैलेष को पांच लाख डॉलर (साढ़े तीन करोड़ रुपये) का चेक पुरस्कार स्वरूप दिया था। इस प्रतियोगिता में विश्व की 176 कंपनियों ने हिस्सा लिया था। शैलेष की कंपनी सीसीसीवी वेलिंगटन न्यूयार्क को यह पुरस्कार 20 से 22 घंटे बैकअप देने वाली बैटरी बनाने पर दिया गया है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

तकनीक को पेटेंट कराया

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us