विज्ञापन
विज्ञापन

आईएमए से मिली प्रेरणा, पूरा हुआ बचपन का सपना, सेना में अफसर बना रोहित

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Wed, 18 Sep 2019 03:43 PM IST
सेना में अफसर बने रोहित
सेना में अफसर बने रोहित - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें

खास बातें

  • मूलरूप से पौड़ी के पैडुल गांव निवासी रावत परिवार का बेटा सेना में
  • डीएवी एनसीसी में रह चुके हैं अंडर ऑफिसर, बचपन से था सेना में जाने का सपना
बचपन में स्कूल की ओर से भारतीय सैन्य अकादमी (आईएमए) की पीओपी देखने का मौका मिला था। यह मौका ही रोहित रावत के लिए अफसर बनने की प्रेरणा बन गया और अब ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी (ओटीए) चेन्नई से पासआउट होकर सेना में अफसर बन गए हैं।
विज्ञापन
रोहित रावत मूलरूप से पौड़ी के पैडुल गांव और देहरादून में शमशेरगढ़ के निवासी हैं। उनके पिता सोहन सिंह रावत सचिवालय से रिटायर्ड हैं जबकि मां आशा रावत गृहिणी हैं। रोहित ने ग्लेशियर पब्लिक स्कूल से 10वीं, एसजीआरआर बालावाला से 12वीं पास की। वर्ष 2016 में डीएवी पीजी कॉलेज से बीएससी की।
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

कॉलेज में एनसीसी के अंडर ऑफिसर भी रहे

विज्ञापन

Recommended

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन
Oppo Reno2

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि  व्  सर्वांगीण कल्याण  की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि व् सर्वांगीण कल्याण की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Himachal Pradesh

ढोलकी के साथ खांजरी बजने पर गाने-नाचने में जो मजा था, वह अब नहीं

पहले जो मजा ढोलकी के साथ खांजरी के बजने से उत्पन्न संगीत पर गाने और नाचने में आता था, वह अब नसीब नहीं हो रहा। खांजरी थाली की तरह नजर आने वाला एक वाद्य यंत्र होता है।

21 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

NCRB की 2015-17 की रिपोर्ट: दिल्ली फिर बनी अपराध की राजधानी, साइबर क्राइम में यूपी नंबर वन

NCRB की 2015-17 की रिपोर्ट जारी हो गई है। दिल्ली फिर अपराध की राजधानी दिखी है तो वहीं साइबर क्राइम के मामले में यूपी नंबर वन है। इसके साथ ही निर्भया कांड के बाद कानून सख्त होने के बाद भी रेप पीड़िताओं को इंसाफ के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है।

21 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree