लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttarakhand ›   Dehradun News ›   Decision on fees of private Ayurvedic technical colleges on December 6 Dehradun Uttarakhand News in hindi

Dehradun: निजी आयुर्वेदिक, तकनीकी कॉलेजों की फीस पर फैसला छह दिसंबर को, समिति की बैठक में लिया गया निर्णय

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Published by: रेनू सकलानी Updated Sat, 26 Nov 2022 02:40 PM IST
सार

प्रदेश के निजी आयुर्वेदिक एवं तकनीकी कॉलेजों की फीस को लेकर शासन में बैठक हुई। सब कमेटियों को कहा गया कि संबंधित कॉलेजों की फीस का आकलन कर 30 नवंबर तक समिति को रिपोर्ट सौंप दी जाए, जिसे विभाग की वेबसाइट पर अपलोड कर चार दिसंबर तक इस पर आपत्तियों का निपटारा कर लिया जाएगा।

फीस
फीस - फोटो : istock
विज्ञापन

विस्तार

प्रदेश के निजी आयुर्वेदिक और तकनीकी कॉलेजों की फीस छह दिसंबर को तय कर दी जाएगी। उच्च शिक्षा सचिव एवं प्रवेश, शुल्क नियामक समिति के सदस्य सचिव शैलेश बगोली के मुताबिक, अभी उन आयुर्वेदिक और तकनीकी कॉलेजों की फीस तय की जाएगी, जिनकी सब कमेटी नियामक समिति को अपनी रिपोर्ट सौंप चुकी है। 



प्रवेश एवं शुल्क नियामक समिति की प्रदेश के निजी आयुर्वेदिक एवं तकनीकी कॉलेजों की फीस को लेकर शुक्रवार को शासन में बैठक हुई। बैठक में सब कमेटियों को कहा गया कि संबंधित कॉलेजों की फीस का आकलन कर 30 नवंबर तक समिति को रिपोर्ट सौंप दी जाए, जिसे विभाग की वेबसाइट पर अपलोड कर चार दिसंबर तक इस पर आपत्तियों का निपटारा कर लिया जाएगा। इसके बाद छह दिसंबर को फीस तय कर जाएगी।


शुल्क नियामक समिति के सदस्य सचिव ने कहा कि पांच निजी कॉलेज फीस को लेकर पेपर जमा नहीं कर पाए हैं। उन्हें भी इसके लिए 10 दिसंबर तक का समय दिया गया है। इसके बाद उनकी फीस पर निर्णय ले लिया जाएगा। बैठक में प्रवेश एवं शुल्क नियामक समिति के अध्यक्ष न्यायाधीश महबूब अली (सेनि), नोडल अधिकारी एएस उनियाल आदि मौजूद रहे। 

मुहैया संसाधनों पर तय होनी है फीस 
प्रवेश एवं शुल्क नियामक समिति के मुताबिक, प्राइवेट कॉलेजों में प्रोफेशनल कोर्स की फीस कॉलेज में मुहैया संसाधनों के आधार पर तय की जाएगी। फीस तय करने के लिए 67 पेज का जो प्रारूप तैयार किया गया है। अभी उसी के आधार पर फीस तय की जाएगी। फीस तीन साल के लिए तय की जाएगी, जबकि नए आवेदनों पर अगले साल से नए प्रारूप के अनुसार फीस तय होगी। 

ये भी पढ़ें...जलवायु परिवर्तन: मीठे पानी की बढ़ रही मांग, बदल जाएगा नदी घाटियों का पूरा सिस्टम, पढ़ें ये चौंकाने वाले तथ्य

फीस को लेकर मनमानी के लगते रहे आरोप 
निजी कॉलेजों पर फीस को लेकर मनमानी के आरोप लगते रहे हैं। कुछ कॉलेज यूजीसी के मानक के अनुसार, शिक्षकों को वेतन एवं छात्र-छात्राओं को सुविधा नहीं देते, पर अधिक फीस लेते हैं, जबकि कुछ सुविधाएं देते हैं और फीस भी पूरी लेते हैं। इसमें पारदर्शिता को लेकर समिति फीस तय कर रही है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00