6075 के चेक का 24 लाख बनने का 'खेल'

अमर उजाला, रुड़की Updated Sat, 23 Nov 2013 07:04 PM IST
विज्ञापन
cheque fraud

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
बाढ़ राहत में 6075 रुपये का जारी किया गया चैक 24 लाख 500 रुपये का कैसे बन गया और वो भी बिना ओवर राइटिंग के। हैं ना बड़ा खेल। आप भी सुनकर चौक जाएंगे, लेकिन हकीकत में ऐसा हुआ है।
विज्ञापन

पीएनबी शाखा से राशि पाने का प्रयास
सरकार को चूना लगाने के लिए लखनऊ की पीएनबी शाखा से यह राशि पाने का भी प्रयास किया गया। शक होने पर भुगतान रोक दिया गया। जांच पड़ताल में इस खेल से पर्दा उठ गया है। प्रशासन अब मुकदमा दर्ज कराने की तैयारी कर रहा है।
लक्सर खादर में आई बाढ़ के बाद प्रशासन ने राहत चेक जारी किए थे। जोगोवाला के बाढ़ पीड़ित हाशिम के नाम भी 31 अगस्त 2013 को 6075 का चेक जारी किया गया था।

राशि ज्यादा होने पर हुआ शक
सितंबर माह में हाशिम के नाम का यह चैक 24 लाख 500 रुपये का बनकर लखनऊ में पीएनबी की इंदिरा नगर शाखा में भुगतान के लिए लगाया गया है। कैशियर को बाढ़ राहत में इतनी बड़ी राशि जारी होने पर शक हुआ। कैशियर ने बैंक प्रबंधक से बात की तो भुगतान पर रोक लगा दी। जांच की बात सुनकर चैक लगाने वाला वहां से फुर्र हो गया। लखनऊ बैंक द्वारा लक्सर प्रशासन को इस मामले की शिकायत की गई। आरोप है कि यह मामला काफी दिनों फाइलों में उलझा रहा।

अधिकारियों ने की जांच

दूसरा रिमांडर आया तो जांच पड़ताल शुरु हुई। तहसीलदार शाहिद हुसैन ने रजिस्टार कानूनगो को तलब कर बाढ़ राहत चैक पत्रावालियों का अवलोकन किया। उसमें हाशिम के नाम 6075 रुपये का चैक जारी होने का उल्लेख है। कमाल की बात यह है कि चैक पर किसी तरह की ओवर राइटिंग नहीं हुई है। बैंक अफसरों ने अल्ट्रा वाइलेट लैंप से जांच के बाद यह दावा किया है। फिलहाल प्रशासन जालसाजी के इस मामले में मुकदमा दर्ज कराने की तैयारी में लगा है।

खाली चैक में तो नहीं भरी गई रकम

लक्सर। ओवर राइटिंग न होने के कारण अब इस बात की संभावनाएं ज्यादा है कि खाली चैक में यह रकम भरी गई है। यानि इस खेल में कोई विभागीय कर्मचारी शामिल है। हाशिम के नाम का खाली जारी करा लिया और बाद में रकम भर दी। फिलहाल बैंक की सूझ-बूझ से सरकार को चूना लगने से बच गया, लेकिन इस साजिश में शामिल लोगों के चेहरे कब तक बेनकाब हो पाएंगे, इसका इंतजार हर किसी को रहेगा।

फुटेज खोल सकती है राज

बैंक की सीसीटीवी फुटेज इस पूरे खेल में काफी मददगार साबित हो सकती है। आखिर वो कौन था, जो लखनऊ बैंक में 24 लाख 500 रुपये का भुगतान पाने के लिए गया था। उस दिन से वीड़ियो फुटेज में उसकी तस्वीर मिल सकती है।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us