विज्ञापन
विज्ञापन

उत्तराखंड: पांच हजार से ज्यादा बीटेक सीटें खाली, पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर होंगे एडमिशन 

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, देहरादून Updated Tue, 20 Aug 2019 09:59 AM IST
B.Tech More than five thousand seats vacant in uttarakhand
- फोटो : प्रतीकात्मक तस्वीर
ख़बर सुनें
प्रदेश में दो चरण की काउंसिलिंग के बाद बीटेक की पांच हजार से ज्यादा सीटें खाली रह गई हैं। इन सीटों पर पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर दाखिला दिया जाएगा। हर साल शासन स्तर से इसकी अनुमति आती थी लेकिन सत्र को देखते हुए कुलपति ने अपने स्तर से ही इसका आदेश जारी कर दिया है।
विज्ञापन
इंजीनियरिंग का बुरा दौर जारी है। इस साल भी दो चरण की काउंसिलिंग के बाद भी बीटेक फर्स्ट ईयर की तीन हजार से ज्यादा सीटें नहीं भर पाईं। सोमवार को कुलपति प्रो. नरेंद्र एस चौधरी ने ऑन स्पॉट काउंसिलिंग का आदेश जारी कर दिया।

उन्होंने बताया कि सोमवार को दूसरे चरण की काउंसिलिंग में आवंटित सीटों पर दाखिलों का अंतिम दिन था। अब मंगलवार से सभी इंजीनियरिंग कॉलेजों में ऑन स्पॉट काउंसिलिंग से बीटेक प्रथम वर्ष की सीटें भरी जाएंगी।

लिहाजा, सभी निजी और संघटक कॉलेजों को निर्देश जारी किए गए हैं कि वह 31 अगस्त तक हर हाल में अपने एडमिशन पूरे कर लें। दूसरी ओर, प्रोफेशनल कोर्स और बीटेक लेटरल एंट्री में दाखिले को 25 अगस्त तक ऑन स्पॉट काउंसिलिंग होगी।
विज्ञापन

Recommended

घर बैठे इस पितृ पक्ष गया में पूरे विधि-विधान एवं संकल्प के साथ कराएं श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति
Astrology Services

घर बैठे इस पितृ पक्ष गया में पूरे विधि-विधान एवं संकल्प के साथ कराएं श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Chandigarh

पंजाब यूनिवर्सिटी की सुरक्षा होगी कड़ी, कराया जा रहा है सीसीटीवी कैमरों की क्वालिटी का रिव्यू

पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ में सुरक्षा पुख्ता करने के लिए पहले से इंस्टॉल किए गए करीब 250 कैमरों का रिव्यू कराया जा रहा है।

16 सितंबर 2019

विज्ञापन

आखिर क्यों बनाए गए मिस्र के पिरामिड, जिंदा लोग भी हैं दफन

पिरामिड और ममी इससे जुड़ी कई कहानियां कई फिल्में आपने सुनी और देखी होंगी लेकिन क्या आपने कभी जानने की कोशिश की है कि आखिर मिस्र में कुछ लोगों को पिरामिड में ही दफनाया क्यों जाता था ?

16 सितंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree