विज्ञापन

शहर की रौनक का रुख करेंगी गांवों की पगडंडियांअ

Dehradun Updated Mon, 28 Jan 2013 05:30 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
देहरादून। राजधानी से अलग थलग पड़े 67 गांवों की पगडंडियां अब शहरों की रौनक का रुख करेंगी। उबड़ खाबड़ रास्तों पर सीधी और सपाट सड़कें बनेंगी। जो गांववासियों को सीधे कस्बों और शहर तक लेकर आएंगी। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना (पीएमजीएसवाई) के तहत इन सड़कों का काम चार साल के भीतर पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।
विज्ञापन

प्रदेश के लगभग 1200 गांव अब तक सड़कों से नहीं जुड़ पाए हैं। इसके कारण ग्रामीणों को गांव तक पहुंचने के लिए कई किलोमीटर पैदल यात्रा करनी पड़ती है। केंद्र के मानकों के अनुसार पीएमजीएसवाई के तहत केवल उन गांवों में ही सड़कें पहुंचाई जा सकती थी, जिनकी आबादी 500 या इससे अधिक हो। उत्तराखंड में ऐसा एक ही गांव है जो सड़क से महरूम है। प्रदेश की विषम भौगोलिक स्थिति को देखते हुए केंद्र ने मानकों में ढील दी है। उत्तराखंड में 250 से 500 के बीच आबादी वाले लगभग 700 गांवों को सड़कों से जोड़ने के लिए डीपीआर (डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट) तैयार की गई है। इसके लिए 1500 करोड़ रुपये बजट का प्रस्ताव किया गया है। इनमें से 67 गांव देहरादून जिले के हैं। 60 गांव तो कालसी और चकराता ब्लाक के हैं, जबकि सात गांव रायपुर और डोईवाला क्षेत्र के हैं।
डीपीआर केंद्र को भेज दी गई है। स्वीकृति मिलते ही काम शुरू हो जाएगा। अगले चार साल के भीतर इन सड़कों का काम पूरा करने का लक्ष्य तय किया गया है। - केके जैन, मुख्य अभियंता, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us