दून में रहा है सुशील मूंछ गैंग का दबदबा

Dehradun Updated Fri, 23 Nov 2012 12:00 PM IST
जरायम की दुनिया में तीन दशक से आतंक बरपा रहे एक लाख रुपये के इनामी सुशील मूंछ का उत्तराखंड और खासतौर पर दून में विवादित संपत्तियों, केबल और खनन में गहरा दखल रहा है। देहरादून और हरिद्वार में कई हत्याएं करने के साथ बालू खनन और आश्रमों की विवादित भूमियों पर काबिज होकर गिरोह ने करोड़ों के वारे-न्यारे किए। उसकी गिरफ्तारी के बाद देवभूमि में मूंछ की बेनामी संपत्तियों का संचालन कर रहे कई सफेदपोश के चेहरे बेनकाब होने की उम्मीद है। मूंछ ऐसा मास्टर मांइड रहा है, जिसने अपराध को व्यवसायिक रूप दिया।
उत्तराखंड में खनन, केबिल और विवादित संपत्तियों में सुशील मूंछ की जडे़ काफी गहरी रही हैं। तीन दशक से पश्चिमी यूपी के अलावा देवभूमि में भी उसके गुर्गे अपना दबदबा बनाए हुए है।
मेरठ कॉलेज की छात्र राजनीति में 1983 में महेश शुक्ला कत्ल करने के बाद सुशील मूंछ ने उत्तराखंड़ की तरफ रुख किया था। केबल नेटवर्क और प्रापर्टी विवाद में 1983 और 86 में राजधानी देहरादून मेें हत्याएं कर अपनी दहशत का राज कायम कर दिया था। इसके बाद बालू खनन और हरिद्वार में आश्रम की विवादित संपत्तियों पर काबिज होने के लिए कई का खून बहाया गया। इसके कारण सुशील मूंछ गैंग का सिक्का पूरे उत्तराखंड में चल गया। खनन, केबल और विवादित भूमियों पर एक छात्र राज हो गया। पूर्व मंत्री ब्रहमदत्त द्विवेद्घी और विधायक कृष्णानंद राय की हत्या करने वाले संजीव माहेश्वरी उर्फ जीवा ने सुशील मूंछ गैंग को चुनौती दी। हरिद्वार की कई संपत्तियाें को लेकर दोनों माफियाओं सरगनाओं के बीच अब भी ठनी हुई है। गुरूवार को सुशील मूंछ की गिरफ्तारी के बाद उसके नेटवर्क से देहरादून, हरिद्वार, रूडकी में जुडे़ लोगाें के चेहरे बेनकाब होने की उम्मीद है।
दास्तान-ए-जुर्म
* 1986 में देहरादून में हत्या
* 1988 में देहरादून में कत्ल
* 1989 में रानीपुर हरिद्वार में हत्या की धमकी
* 1997 में देहरादून केलाडनवाला में हत्या का प्रयास
* 1997 में रानीपुर क्षेत्र में मारपीट कर लूटपाट
*2000 में हरिद्वार में आश्रम प्रापर्टी विवाद में कत्ल

Spotlight

Most Read

Kanpur

एक्सप्रेस-वे का काम अधूरा, टोल टैक्स देना पड़ेगा पूरा 

लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर 19 जनवरी की मध्य रात्रि से टोल टैक्स तो शुरू हो जाएगा लेकिन एक्सप्रेस-वे पर तैयारियां आधी-अधूरी हैं। एक्सप्रेस-वे के किनारे न रेस्टोरेंट बने और न होटल। कई जगह पर बैरीकेडिंग टूटने से जानवर भी सड़क  पर आ जाते हैं।

18 जनवरी 2018

Related Videos

GST काउंसिल की 25वीं मीटिंग, देखिए ये चीजें हुईं सस्ती

गुरुवार को दिल्ली में जीएसटी काउंसिल की 25वीं बैठक में कई अहम मुद्दों पर चर्चा हुई। इस मीटिंग में आम जनता के लिए जीएसटी को और भी ज्यादा सरल करने के मुद्दे पर बात हुई।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper