शहीदों को श्रद्धांजलि, उनकी याद में दीपदान

Dehradun Updated Sat, 10 Nov 2012 12:00 PM IST
देहरादून। उत्तराखंड राज्य स्थापना की 12वीं वर्षगांठ पर कचहरी परिसर स्थित शहीद स्मारक पर कई आंदोलनकारी संगठनों ने श्रद्धांजलि कार्यक्रम कर शहीदों को याद किया। अभी तक शहीदों के सपनों का राज्य न बन पाने पर रोष जताया। ऐसा होने तक संघर्ष जारी रखने का ऐलान किया।
यहां सुबह के वक्त पहुंचे मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने शहीदों को श्रद्धा सुमन अर्पित किए। उत्तराखंड कांग्रेस कमेटी के प्रदेश अध्यक्ष यशपाल आर्य ने भी शहीद स्थल पर शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित कर प्रदेशवासियों को स्थापना दिवस की शुभकामना दी। इस अवसर पर उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष जितेंद्र चौहान, महानगर अध्यक्ष विपुल नौटियाल, जिलाध्यक्ष टीसी भारती, प्रभात डंडरियाल, जस्सी बहुगुणा, विनोद असवाल, रोशनी गोदियाल, विनीत त्यागी, तिलक सोनकर, ज्ञानेंद्र रावत आदि मौजूद रहे।
उत्तराखंड महिला मंच ने कचहरी परिसर स्थित शहीद स्मारक पर जाकर शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित किए। मंच संयोजक कमला पंत, पद्मा गुप्ता, भुवनेश्वरी कठैत, निर्मला बिष्ट आदि शामिल रहे।
उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी मंच की ओर से पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार कचहरी स्थित शहीद स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। शाम के वक्त शहीदों की याद में दीपदान किया गया। वक्ताओं ने इस अवसर पर भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाई। सरकार से पर्वतीय क्षेत्रों के विकास पर विशेष ध्यान देने, लघु उद्योगों लगाए जाने उठाई। गैरसैण में विधानभवन बनाए जाने, सत्र चलाए जाने की घोषणा का स्वागत किया। मुजफ्फरनगर कांड के दोषियों को सजा के लिए सरकार से मजबूत पैरवी करने को कहा। मंच के प्रदेश अध्यक्ष जगमोहन सिंह नेगी, प्रदेश महासचिव रामलाल खंडूडी, उत्तराखंड संघर्ष समिति के पूर्व अध्यक्ष रणजीत सिंह वर्मा, ओमी उनियाल, प्रदीप कुमार, मोहन सिंह रावत, पूर्ण सिंह लिंगवाल, सुलोचना भट्ट, यशवंत रावत आदि ने विचार रखे।

---------------------------------------
शहीद परिजनों ने काले झंडे लगा जताया विरोध
देहरादून। लापता आंदोलनकारियों को शहीद का दर्जा दिए जाने की मुख्य मांग को लेकर उत्तराखंड राज्य निर्माण शहीद परिवारजन कल्याण समिति के अध्यक्ष राजेश वालिया एक बार फिर जोगीवाला चौक पर काले झंडे लगा धरने पर बैठ गए। बीते रोज ही पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी ने उनकी इस मांग को माने जाने को लेकर आश्वस्त करते हुए जूस पिला उनका छह दिन से चला आ रहा अनशन तुड़वाया था, लेकिन राज्य स्थापना दिवस पर गोरखा मिलिट्री इंटर कालेज में पहुंचे इन शहीद परिजनों ने मांग को लेकर कोई घोषणा न किए जाने पर रोष जताया और कार्यक्रम से उठकर चले गए। इसके पश्चात स्थापना दिवस को काला दिवस के रूप में मनाने की घोषणा करते हुए आमरण अनशन स्थल पर धरना शुरू कर दिया। उनके साथ बसंती रतूड़ी, सुनील जुयाल आदि शामिल रहे।

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

मध्यप्रदेश: कांग्रेस ने लहराया परचम, 24 में से 20 वॉर्ड पर कब्जा

मध्यप्रदेश के राघोगढ़ में हुए नगर पालिका चुनाव में कांग्रेस को 20 वार्डों में जीत हासिल हुई है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: इसे नहर से बाहर निकालने में वन विभाग के छूटे पसीने

महाराष्ट्र के भंडारा जिले के गोसीखुर्द बांध की नहर में फंसे एक बारहसिंगा का रेस्क्यू ऑपरेशन किया गया।

20 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper