छात्रसंघ बनेगा वैसा, हम चाहेंगे जैसा

Dehradun Updated Mon, 01 Oct 2012 12:00 PM IST
देहरादून। कहते हैं बदलाव किसी भी समय हो सकता है। कालेज के छात्रसंघों में भी इसका असर नजर आ रहा है। तभी तो वह लड़ाई-झगड़े वाले छात्रसंघ की छवि को तोड़कर वह लोकप्रिय बनाने का संकल्प ले रहे हैं। साथ ही राजनीतिक पार्टी लाइन से अलग हटकर छात्रों की समस्याओं पर काम करने की बात कह रहे हैं। अब देखना यह है कि इस पर कितना अमल करते हैं। अमर उजाला ने जब विभिन्न कालेजों के छात्रसंघ अध्यक्षों से बात की, तो उन्होंने बदलाव के संकेत दिए। उनका कहना था, हम अच्छे बदलाव की नींव रखेंगे, जिस पर आने वाले समय में इमारत खड़ी होगी।

क्या कहते हैं छात्रसंघ अध्यक्ष
‘छात्रसंघ जब तक आम छात्रों में लोकप्रिय नहीं होगा, तब तक हमारा कोई लाभ नहीं। मेरी कोशिश होगी कि हर छात्र तक पहुंच सकूं। छात्रों की समस्याओं के निस्तारण के लिए हर संभव प्रयास किए जाएंगे। डीएवी में जो लड़ाई झगड़ों की छवि है, उसे सौहार्द में बदल पाया तो यह मेरी सबसे बड़ी उपलब्धि होगी। - महेश जगूड़ी, छात्रसंघ अध्यक्ष डीएवी पीजी

‘हमारा कालेज पढ़ाई के माहौल के लिए जाना जाता है और इस माहौल को बरकरार रखना है। अब मेरी नजर कालेज सुविधाओं पर है। चुनाव खत्म होने के बाद किसी पार्टी या संबंधित छात्र संगठन की तरह नहीं, बल्कि छात्रसंघ अध्यक्ष की तरह काम करना है। जो वादे किए हैं उन्हें पूरा करने के लिए मैंने प्रयास करने शुरू कर दिए हैं। - सुशील सिंह, छात्रसंघ अध्यक्ष डीबीएस पीजी

‘छात्राओं का इकलौता कालेज है एमकेपी। मैं चाहती हूं हमारे कालेज की पहचान बस यही न रहकर छात्राओं के टैलेंट के कारण भी बने। छात्राओं के सर्वांगीण विकास के कार्यक्रमों की पहल होगी। मैं सालभर छात्राओं के बीच रहूंगी, ताकि उन्हें जब भी कोई आवश्यकता हो, तो वह मुझे अपने साथ पा सकें। - महक, छात्रसंघ अध्यक्षा, एमकेपी पीजी

‘अच्छा लीडर क्या होता है यह कहकर नहीं, करके दिखाने की कोशिश होगी। हमारे कालेज में सौहार्दपूर्ण वातावरण कायम रहे और छात्रों को हर सुविधा मिले। छात्रों और शिक्षकों में अच्छा तालमेल बिठाने और लड़ाई झगड़ों को कालेज से दूर रखने के लिए हर संभव प्रयास होंगे। - भजन सिंह, छात्रसंघ अध्यक्ष, एसजीआरआर पीजी

कुछ ऐसे हों प्रयास
‘छात्रसंघ कालेज का अहम हिस्सा है। जरूरी है वह सकारात्मक सोच के साथ कार्य करें। तालमेल में ही बेहतर नतीजे दिखते हैं। क्वालिटी वार्तालाप और नकारात्मकता को दूर रखकर कोई भी छात्रसंघ आदर्श बन सकता है। किसी समस्या का समाधान धरने या प्रदर्शन से नहीं होता, सकारात्मकता के साथ बात करने से होता है। मुझे पूरी उम्मीद है इस बार का छात्रसंघ इसी सोच के साथ काम करेगा। - डॉ. कौशल कुमार, चीफ प्रॉक्टर, डीएवी पीजी

‘अच्छा लीडर बनने के लिए जरूरी है अपने काम के प्रति ईमानदारी और छात्रों के प्रति अपनी जवाबदेही को तय करना। माना कि लिंगदोह के बाद दोबारा चुनाव नहीं लड़े जा सकते, लेकिन एक साल में भी यदि जवाबदेही के साथ काम किया जाए तो वह छात्रनेता सबके दिलों में जगह बना सकता है। मेहनत, अपनी ईमानदारी के साथ समझौता न करने और अपनी एनर्जी को सही दिशा में लगाने से ही वह छात्रों के हित का कार्य कर सकते हैं। इन चीजों पर डीएवी के छात्रसंघ को विशेष रूप से अमल करना चाहिए, क्योंकि वह जिले नहीं राज्य भर के छात्रसंघ को प्रभावित करने में सक्षम है। - रविंद्र जुगरान, पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष, डीएवी पीजी

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

‘कालाकांडी’ ने ऐसा किया ‘कांड’ की बर्बाद हो गई सैफ की जिंदगी!

‘कालाकांडी’ ने चार दिन में महज तीन करोड़ की कमाई की है। और तो और ये लगातार पांचवां साल है जब सैफ अली खान की मूवी फ्लॉप हुई यानी बीते पांच साल से सैफ एक अदद हिट मूवी के लिए तरस गए हैं।

17 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper