दून में फिलहाल गननचुंबी इमारतें नहीं

Dehradun Updated Sat, 25 Aug 2012 12:00 PM IST
देहरादून। राजधानी में भवनों की ऊंचाई बढ़ाने में तकनीकी अड़चन तो कुछ भी नहीं है, लेकिन व्यावहारिक दिक्कतें काफी है। प्रदेश सरकार जब तक इन दिक्कतों का समाधान नहीं ढूंढ पाती, तब तक दून में भवनों की ऊंचाई बढ़ा पाना असंभव सा है। क्योंकि, दून की सड़कें की चौड़ाई इतनी नहीं है, जो भारी यातायात का दबाव झेल सके।
दून में 21 मीटर तक भवन निर्माण की इजाजत है। इसे मानक को बिल्डर बढ़ाने की मांग कर रहे हैं, लेकि शहर की तमाम कालोनियों की सड़कों की चौड़ाई बेहद कम है। बसंत विहार और रेसकोर्स को छोड़कर दून की ज्यादातर कालोनियों की सड़कों की चौड़ाई सात से 10 मीटर के आसपास ही है। इतनी कम चौड़ाई में भवनों की ऊंचाई बढ़ा पाना संभव नहीं है। यहां तक की शहर के मुख्य मार्गों की चौड़ाई भी अधिक नहीं है, जिसके कारण अगर भवनों की ऊंचाई बढ़ती है तो फिर यातायात का दबाव झेलना संभव नहीं है। आईआईटी रुड़की के एमटेक और उत्तराखंड के लाइसेंसधारी अभियंता सुमित प्रसाद का कहते है कि भवनों की ऊंचाई बढ़ाने में तकनीकी दिक्कत कोई नहीं है। ऊंचाई बढ़ाने के लिए दून में सड़कों की चौड़ाई बढ़ानी होगी। परिवहन की सुविधाएं विकसित करनी होगी।
सेंट्रल बिल्डिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीबीआरआई) रुड़की के वैज्ञानिक डा.अचल मित्तल कहते है ऊंचे भवनों के लिए तकनीकी काफी महत्वपूर्ण है। निर्माण के दौरान उस तकनीकी की जांच होनी चाहिए ताकि भविष्य में खतरे कम किए जा सकें। उत्तराखंड के नगर नियोजक एसके पंत भी मानते है कि इमारतें की ऊंचाई बढ़ाने में दिक्कत नहीं है। इसके लिए संसाधन बढ़ाने की जरूरत है। सड़कें चौड़ी होनी चाहिए। एमडीडीए के पास ऐसा ढांचा होना चाहिए, जिसकी मदद से हर इमारतों के निर्माण पर लगातार नजर रखी जा सके।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

आप विधायक के इस बयान से मुश्किल में पड़ सकते हैं केजरीवाल, कहा- '...ऐसे अधिकारियों को ठोकना चाहिए'

केजरीवाल के आवास पर मुख्य सचिव से हाथापाई मामले में फजीहत झेल रही आम आदमी पार्टी अपने एक विधायक के विवादित बयान से बड़ी मुश्किल में फंस सकती है।

23 फरवरी 2018

Related Videos

सरकारी स्कूल के बच्चों ने सिखाई पहाड़ा याद करने की नई तरकीब, कहेंगे वाह

हम सबने बचपन में पहाड़ा सीखा है। सच कहें तो ये काम थोड़ा बोरिंग लगता था। लेकिन आज हम आपको एक ऐसा वीडियो दिखाएंगे जो पहाड़ा सिखाने के साथ-साथ मनोरंजन भी कराएगा...

23 फरवरी 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen