फ्लाप शो साबित हुई एमफार्मा की काउंसलिंग

Dehradun Updated Fri, 17 Aug 2012 12:00 PM IST
देहरादून। जैसा कि अंदेशा था, एमफार्मा की काउंसलिंग फ्लाप शो साबित हुई। बृहस्पतिवार को उत्तराखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी (यूटीयू) के एमफार्मा कोर्स की 72 सीटों के लिए नई इमारत स्थित फैकल्टी आफ फार्मेसी में काउंसलिंग का आयोजन किया गया था। निर्धारित समय तक केवल 14 अभ्यर्थी ही काउंसलिंग को पहुंचे। 37 प्रतिशत आरक्षित सीटें थीं, लेकिन इनके लिए एक भी अभ्यर्थी ने रुचि नहीं दिखाई।
फार्मास्यूटिकल्स, फार्मेकोलाजी और डीआरए प्रत्येक की 24 सीटों के लिए यह काउंसलिंग होनी थी। छात्र-छात्राओं के लिए सुबह साढ़े नौ बजे रिपोर्टिंग टाइम रखा गया था। काउंसलिंग के लिए तैनात किए गए लोग विद्यार्थियों की राह ही तकते रहे। आलम यह था कि काउंसलिंग का समय अपराह्न साढ़े पांच बजे तक नियत किया गया था, लेकिन दोपहर एक बजे ही सभी खाली हो चुके थे।
यह प्रावधान भी न आया काम
यह भी तय हुआ था कि खाली सीटों पर काउंसलिंग के लिए एंट्रेंस एग्जाम न देने वाले अभ्यर्थी भी शामिल हो सकेंगे। इसके लिए उन्हें यूनिवर्सिटी के फाइनेंस कंट्रोलर के नाम एक हजार रुपये का डिमांड ड्राफ्ट जमा कराना होगा, लेकिन यह प्रावधान भी ज्यादा काम न आया।
फीस हो सकती है एक बड़ा कारण
यूनिवर्सिटी के डिप्टी रजिस्ट्रार आशीष उनियाल के अनुसार बढ़ी फीस अभ्यर्थियों की कोर्स के प्रति अरुचि का कारण हो सकती है। पहले दो सेमेस्टर के लिए 50 हजार थी, जो इस बार 60 हजार कर दी गई थी। अन्य संस्थानों की ओर आकर्षण भी एक वजह संभव है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

भारतीय डाक में निकलीं 2,411 नौकरियां, ऐसे करें अप्लाई

करियर प्लस के इस बुलेटिन में हम आपको देंगे जानकारी लेटेस्ट सरकारी नौकरियों की, करेंट अफेयर्स के बारे में जिनके बारे में आपसे सरकारी नौकरियों की परीक्षाओं या इंटरव्यू में सवाल पूछे जा सकते हैं और साथ ही आपको जानकारी देंगे एक खास शख्सियत के बारे में।

24 जनवरी 2018