बहस से क्यों डरते हैं

सुभाषिनी सहगल अली Updated Sun, 14 Jan 2018 11:06 AM IST
Why are scared of debate
सुभाषिनी सहगल अली
पिछले साल के आखरी दिनों में सबसे अधिक हल्ला भूख से मौत, भीमा-कोरेगांव के पास दलितों पर हुए हमले या फिर उत्तर प्रदेश के आलू किसानों की दुर्दशा पर नहीं, बल्कि लोकसभा द्वारा पारित एक समय में बोले जाने वाले तीन तलाक के खिलाफ विधेयक पर ही हुआ। इस विधेयक के जल्दबाजी में पारित किए जाने वाले राजनीतिक कारणों पर टिप्पणी न करते हुए इस विधेयक के बारे में कुछ बात करना आवश्यक है।

जब भी कानून में परिवर्तन करने की प्रक्रिया शुरू की जाती है, तो उस पर चर्चा करवाना आवश्यक समझा जाता रहा है। 1977-78 में जब बलात्कार और दहेज संबंधी कानूनों में बड़े परिवर्तन किए गए थे, तब इन परिवर्तनों की मांग उठाने वाली सुशीला गोपालन, अहिल्या रान्गानेकर जैसों की अगुवाई में सांसदों ने पूरे देश का भ्रमण कर महिला कार्यकर्ताओं, वकीलों, समाज-सेवकों की राय लेने का काम किया था।

याद रखने की जरूरत है कि ‘इज्जत के नाम पर’ होने वाले अपराधों के खिलाफ आज तक कानून नहीं बन पाया है, जबकि इस पर बहस हो चुकी है और इसके मसौदे पर महिला और बाल कल्याण मंत्रालय की मोहर भी लग चुकी है।

तीन तलाक की प्रथा एकतरफा है और इसमें समझौते के लिए गुंजाइश नहीं होती। हालांकि 1950 के बाद से लगातार उच्च और सर्वोच्च न्यायालयों ने इस तरह के तलाक को गलत ठहराया है। पर इस तरह के अधिकतर मामले न्यायालय तक नहीं पहुंचते और उलेमा का एक हिस्सा और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड भी इसके खिलाफ नहीं बोलते। हाल में सर्वोच्च न्यायालय ने मुस्लिम महिलाओं की विनती स्वीकार कर इस प्रथा को गैरकानूनी ठहराया है। इस फैसले को अमली जामा पहनाने के लिए सरकार ने आनन-फानन में विधेयक तैयार कर लोकसभा में पारित कर दिया।

जल्दबाजी में पेश किए जाने वाले इस विधेयक का असर भी वही होगा, जो जल्दबाजी में तीन बार तलाक कहने पर शादी को तोड़ देने का है। विधेयक एक दीवानी मामले को फौजदारी के मामले में परिवर्तित कर इकठ्ठा तीन बार तलाक कहने वाले पति को अपराधी ठहराकर उसे जेल भेजने का पूरा इंतजाम करता है।

अपराध को गैर संज्ञेय और गैर जमानती बनाकर इस बात की छूट दे दी गई है कि कोई भी किसी मुस्लिम पुरुष के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर सकता है कि उसने उसे तीन बार तलाक कहते हुए सुना है। पुलिस के लिए एफआईआर दर्ज करना अनिवार्य है और चाहे आरोपी ने कहा हो या न कहा हो, उसे जेल भेजे जाने की पूरी आशंका है। फिर शादी को बचाने का काम कैसे किया जाएगा? पत्नी और बच्चों के अधिकारों को सुरक्षित करने की बात कैसे की जाएगी? 

इन्हीं खामियों को दूर करना जरूरी है और इसके लिए विधेयक पर चर्चा की जरूरत है। हमारा संगठन, अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति, तीन तलाक के खिलाफ है। पर ऐसा कानून अगर मुस्लिम महिलाओं की चिंता कम कम करने के बजाय बढ़ाएगा, तो हम उसका विरोध करेंगे।

सरकार से हमारा सवाल है-आप बहस से क्यों डरते हैं? दरअसल भाजपा के मंत्री और नेता इस बहस को इस तरह प्रस्तुत कर रहे हैं, जैसे वे मुस्लिम महिलाओं के सबसे ईमानदार पक्षधर हैं और विधेयक की आलोचना करने वाले उनके शत्रु। तीन तलाक की प्रथा समाप्त होनी चाहिए, पर उसे खत्म करने के नाम पर प्रभावित महिलाओं के लिए नई समस्याएं पैदा नहीं की जानी चाहिए।

-माकपा पोलित ब्यूरो की सदस्य

Spotlight

Most Read

Opinion

गंगा से येरूशलम तक

नेतन्याहू की भारत यात्रा हमारी विदेश नीति का असाधारण आत्मविश्वास पर्व है। एक जीवंत, साहसी और कुशाग्र बुद्धि का पराक्रमी उदाहरण इस्राइल यदि भारत का अभिन्न और परम विश्वसनीय मित्र है, तो निश्चय ही यह देखकर भारत के शत्रुओं की नींद उड़ेगी।

18 जनवरी 2018

Related Videos

साल 2018 के पहले स्टेज शो में ही सपना चौधरी ने लगाई 'आग', देखिए

साल 2018 में भी सपना चौधरी का जलवा बरकरार है। आज हम आपको उनकी साल 2018 की पहली स्टेज परफॉर्मेंस दिखाने जा रहे हैं। सपना ने 2018 का पहले स्टेज शो मध्य प्रदेश के मुरैना में किया। यहां उन्होंने अपने कई गानों पर डांस कर लोगों का दिल जीता।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper