ट्रंप की धमकी से क्या बदलेगा?

तवलीन सिंह Updated Sun, 07 Jan 2018 06:40 PM IST
तवलीन सिंह
तवलीन सिंह
ख़बर सुनें
भारत के नजरिये से 2018 की शुरुआत अच्छी रही। दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश के राष्ट्रपति ने ट्वीट करके यह घोषित किया कि पाकिस्तान को दशकों से जो आर्थिक सहायता अमेरिका देता आया है, वह बंद कर दी जाएगी, क्योंकि आतंकवाद के उन्मूलन के नाम पर इस्लामाबाद ने अब तक वाशिंगटन को बेवकूफ ही बनाया है। भारतीय राजनीतिक पंडितों और रक्षा विशेषज्ञों ने इसका स्वागत किया। लेकिन क्या अमेरिका के ऐसा करने से पाकिस्तान अपनी आतंकवादी गतिविधियां बंद कर देगा? क्या ऐसा करना पाकिस्तान के सैनिक शासकों के लिए संभव भी है? मैं विनम्रता से अर्ज करना चाहूंगी कि डोनाल्ड ट्रंप की इस धमकी से पाकिस्तान पर कोई फर्क नहीं पड़ने वाला। ऐसा इसलिए कि पाक सत्ता प्रतिष्ठान की दृष्टि में आतंकवादी पूरी तरह निर्दोष हैं और अगर कोई खलनायक है, तो वह अमेरिका है।
इमरान खान ने पिछले सप्ताह अमेरिकी टीवी पत्रकारों को इंटरव्यू में कहा कि अमेरिका अपनी गलतियों का दोष पाकिस्तान के सिर थोप रहा है। इमरान खान की बातें इसलिए महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि उस देश के ताकतवर सैन्य प्रतिष्ठान ने तकरीबन तय कर लिया है कि इमरान खान कुछ महीनों में होने वाले आम चुनाव के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री बनेंगे। सो जब इमरान कहते हैं कि अमेरिका को पाकिस्तान को बदनाम करने के बदले अपने गिरेबान में झांककर देखना चाहिए, तो उनकी बातों को गंभीरता से लेना चाहिए। उनका कहना है कि  सारा दोष अमेरिका का है, क्योंकि उसने ड्रोन विमानों के जरिये ऐसा युद्ध लड़ा है, जिसमें एक डरावने विडियो गेम द्वारा इंसान मारे जा रहे हैं। वह कहते हैं, ‘जब किसी गांव में बम फटता है, तो क्या उसके सारे टुकड़े तय करके सिर्फ आतंकवादियों को ही मारते हैं? क्या सच यह नहीं है कि इन ड्रोनों की वजहों से हजारों बेगुनाह औरतें और बच्चे मारे गए हैं?’

पाक सेना के प्रवक्ताओं ने भी बार-बार बिल्कुल यही बात कही है। सो जब पाकिस्तान अपनी नजरों में निर्दोष है, तब वह उन जेहादी संस्थाओं को कैसे त्याग सकता है, जिन्हें सेना ने कश्मीर और अफगानिस्तान में जेहाद करने के लिए खुद प्रशिक्षित किया है? परवेज मुशर्रफ खुलकर कहते हैं कि हाफिज सईद उनके लिए हीरो हैं। याद रखना चाहिए कि मुशर्रफ के कार्यकाल में न सिर्फ कारगिल का युद्ध हुआ था, बल्कि उन्होंने ओसामा बिन लादेन को तब शरण दी थी, जब उसे अफगानिस्तान से भागना पड़ा था।

पाकिस्तानी सेना अपनी बदमाशियां छिपाने में माहिर है, सो ओसामा बिन लादेन की मौत के बाद आज तक वहां के किसी सेनाध्यक्ष ने स्वीकार नहीं किया है कि उनको इसकी जानकारी थी कि बिन लादेन अपने परिवार के साथ कहां छिपकर बैठा था। न ही कभी किसी पाकिस्तानी सेनाध्यक्ष ने स्वीकार किया है कि भारत की जमीन पर जेहादी आतंकवाद फैलाने में उनका हाथ है। जब सुबूत पर सुबूत देने के बाद भी पाकिस्तान का एक भी नेता यह मानने के लिए तैयार नहीं है कि मुंबई पर हमले की साजिश उनके देश में बैठे सरगनाओं ने रची थी, तो यह उम्मीद पालकर हम बेवकूफी ही करेंगे कि डोनाल्ड ट्रंप  के इस कदम के बाद पाकिस्तान में परिवर्तन देखने को मिलेगा। भारत की पाकिस्तान नीति इस आधार पर बनाई जानी चाहिए कि पाकिस्तान अपनी जेहादी विदेश नीति तभी बदलेगा, जब हम अपनी शक्ति से उसको बदलने पर मजबूर करने लायक होंगे। अफसोस कि ऐसा अभी तक भारत के किसी भी प्रधानमंत्री ने करके नहीं दिखाया है।

Spotlight

Most Read

Opinion

कश्मीर में अमन का मौका

कश्मीर समस्या का सारा दोष नरेंद्र मोदी पर डालने वाले लोग झूठ बोल रहे हैं। पर नरेंद्र मोदी ने अगर नए सिरे से कश्मीर नीति बनाई होती और वास्तव में परिवर्तन और विकास जमीनी तौर पर लाकर दिखाया होता, तो हो सकता है घाटी में शांति बहाल रहती।

24 जून 2018

Related Videos

टीआरपी की लिस्ट में दस का दम का हुआ ये हाल, शूटिंग जारी रखने में सलमान की घटी दिलचस्पी

सलमान खान की फिल्म रेस 3 का जादू दूसरे हफ्ते में ही बॉक्स ऑफिस पर उतरने लगा है। फिल्म को 150 करोड़ कमाने के लिए दूसरे हफ्ते का इंतज़ार करना पड़ा और इससे फिल्म इंडस्ट्री में नई सुगबुगाहट शुरू हो गई है।

24 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen