विज्ञापन
विज्ञापन

दो त्रासदी, दोहरा रवैया

सुभाषिनी सहगल अली Updated Thu, 20 Jun 2019 06:22 PM IST
सुभाषिनी सहगल अली
सुभाषिनी सहगल अली - फोटो : A
ख़बर सुनें
देश के तमाम सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा रही हैं। केंद्र और अधिकतर राज्य सरकारों का ध्यान स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के बजाय उनके निजीकरण पर है। दुनिया में कहीं भी जनता के स्वास्थ्य की देखरेख निजी अस्पतालों और बीमा कंपनियों द्वारा नहीं, बल्कि सरकारी अस्पतालों और सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं द्वारा की जाती है। पर हमारी सरकारों पर इसका कोई असर नहीं पड़ रहा है। ऐसे में प्रसार माध्यमों की जिम्मेदारी बढ़ जाती है। जनता के स्वास्थ्य से जुड़ी सच्चाई दिखाना, सरकारों की उदासीनता का खुलासा करना और अच्छे फैसलों का प्रचार करना जागरूक और जन हितैषी मीडिया का कर्तव्य है। पर पिछले दिनों अस्पतालों में घटी घटनाओं पर मीडिया का रुख निराशाजनक रहा।
विज्ञापन
विज्ञापन
कोलकाता के सरकारी अस्पताल में एक मरीज की मौत के बाद परिजनों ने डॉक्टरों के साथ मारपीट की। निश्चित रूप से डॉक्टरों के साथ हमदर्दी होनी चाहिए और हमदर्दी जताई भी गई। तृणमूल सरकार ने अपने चिर-परिचित अंदाज में डॉक्टरों से बात करने से इनकार कर दिया। ममता बनर्जी पहले भी ऐसा कर चुकी हैं। पर तब उनकी ज्यादा आलोचना नहीं होती थी, क्योंकि उन्होंने माकपा को हराकर गद्दी संभालने का बड़ा काम जो किया था! अब चूंकि भाजपा उनको हटकर गद्दी संभालने की तैयारी में है, तो हालात बदले हुए हैं और मीडिया का रुख भी बदला हुआ है। अस्पताल के दरवाजे पर भाजपा की भीड़ प्रदर्शन करने पहुंच गई। देश भर के डॉक्टरों ने हड़ताल शुरू कर दी। यह चौबीस घंटे देखी जाने वाली खबर बन गई। डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए विशेष कानून की जरूरत महसूस हुई, जैसे कि अभी तक उनसे मारपीट करना कानूनी था।

इसी बीच, बिहार में मुजफ्फरपुर के सरकारी अस्पताल में सौ से भी अधिक बच्चे चमकी बुखार से मर गए। कई दिनों तक यह खबर स्थानीय अखबारों में छिपी रही। फिर जब मरने वाले बच्चों की संख्या बढ़ने लगी, तो मीडिया ने इसका संज्ञान लिया, पर मंत्रियों पर टीका-टिप्पणी नहीं की गई। फिर मंत्रियों का दौरा शुरू हुआ और अस्पताल को बेहतर बनाने का वादा किया गया, जो 2013 में भी किया गया था। केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री पधारे और उन्होंने प्रेस वार्ता भी की। अंत में मुख्यमंत्री भी आए। यह ऐसी बीमारी है, जो उत्तर प्रदेश के पूर्वांचल से बिहार के तराई के इलाके में हर साल फैलती है। इसका इलाज है। इससे बचने के लिए टीका भी है। लेकिन कभी टीका नहीं लगाया जाता।

बीमारी और मौतों की गंभीरता पर पर्दा डालने के लिए कहा गया कि वे बच्चे लीची खाने से मरे। गरीबों के पास अपने बच्चों को लीची खिलाने के लिए पैसा होता, तो वे बच्चे कूपोक्षण के शिकार न बनते। दरअसल एक डॉक्टर ने बीमार बच्चों का सर्वेक्षण करते हुए पाया कि वे कुपोषण के शिकार हैं। डॉक्टर ने यह भी पाया कि बच्चे भूख मिटाने के लिए कच्ची लीची खा लेते हैं, जिससे उनका पेट खराब हो जाता है और चमकी बुखार की आशंका बढ़ जाती है।

पिछले साल केरल में एक नई बीमारी-निपाह वायरल-आ पहुंची थी। मरीजों की भर्ती के बाद ही पता चल पाया कि बीमारी का स्रोत क्या है। केरल की सरकार तत्काल सक्रिय हो गई। विदेश से भी संक्रमण के विशेषज्ञ बुलाए गए और बीमारी पर काबू पा लिया गया। संक्रमण और वायरस से संबंधित दुनिया के सबसे बड़े शोध संगठन ने केरल के मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री को आमंत्रित कर उनके प्रयासों को सराहा। पर इस बारे में किसको पता है?

-लेखिका माकपा पोलित ब्यूरो की सदस्य हैं।
 

Recommended

फैशन की दुनिया को नया आयाम देता ये खास फैशन शो
Invertis university

फैशन की दुनिया को नया आयाम देता ये खास फैशन शो

समस्या कैसी भी हो, हमारे ज्योतिषी से पूछें सवाल और पाएं जवाब मात्र 99 रुपये में
Astrology

समस्या कैसी भी हो, हमारे ज्योतिषी से पूछें सवाल और पाएं जवाब मात्र 99 रुपये में

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

बाढ़ और संवेदनहीनता : सच कड़वा है, लेकिन इस कड़वे सच को स्वीकार करना पड़ेगा

हमारे देश में सबसे बड़ी आपदा सरकारों की संवेदनहीनता की है। बिहार जैसे राज्यों में यह संवेदनहीनता बार-बार देखने को इसलिए मिलती है, क्योंकि वहां के लोग गरीबी के कारण इतने बेजुबान हैं कि अपने बच्चों का बेमौत मरना भी भुला देने पर मजबूर हैं।

23 जुलाई 2019

विज्ञापन

कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार गिरी, भाजपा विधायक रेणुकाचार्य ने किया डांस

कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार गिर गई। जिसके बाद बेंगलुरू के रमाडा होटल में भाजपा विधायक रेणुकाचार्य ने अपने समर्थकों के साथ जमकर डांस किया।

23 जुलाई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree