विज्ञापन

कथा / लघुकथाः बदनसीबी पर पत्थर का दर्द

Varun Kumar Updated Thu, 16 Aug 2012 10:27 AM IST
pain of the stone
विज्ञापन
ख़बर सुनें
कमलेश भारतीय
विज्ञापन
एक बार एक जगह तीन पत्थर इकट्ठे होकर अपने दुख-सुख बांटने लगे। पहले पत्थर ने अपने भाग्य की सराहना करते हुए कहा, `मैं तो एक खेत में, मिट्टी की गोद में गुमनाम जीवन गुजार रहा था। मेरी खुशकिस्मती कि मुझे धन्ना जाट जैसा भक्त मिल गया और मैं गुमनाम से भगवान बन गया। ठाकुर के रूप में सब जगह मेरी पूजा की जाती है। धन्ने जैसा विश्वास आदमी को हर सफलता के द्वार पर ले जाता है। यह मेरी सीख है, वर्ना मैं क्या हूं? पत्थर निरा पत्थर। खैर तुम सुनाओ, तुम्हारी कैसी गुजर रही है?’

`भैया, मैं भी तुम्हारी तरह किसी चट्टान तले दबा, अंधेरे की परतों में दिन गुजार रहा था कि शिल्पी ने मुझे ढूंढ़ निकाला। तराशा, संवारा और प्रेम के अमर प्रतीक ताजमहल में सजा दिया। तब से मैं दुनिया को प्रेम का पाठ पढ़ा रहा हूं। जब-जब प्रेमी युवा जोड़े एक दूसरे के लिए मर मिटने की कसमें खाते हैं तब तब मैं अपने भाग्य पर इठलाता हूं। भैया, मैं बोले जा रहा हूं, तुम चुप और उदास हो, क्या बात है?’ दूसरे पत्थर ने तीसरे पत्थर से कहा जो कहीं दूर खोया हुआ लगता था।

`भाइयो, मैं एक बदनसीब पत्थर हूं। हालांकि मेरी कहानी तुमसे एकदम उलट है। देखने में एक दूधिया, संगमरमरी चौकोर टुकड़ा हूं और बेहद कीमती हूं। यही क्यों जिस दिन तालियों की गड़गड़ाहट के बीच मेरे ऊपर से रेशमी परदा हटाया गया था, उस दिन लोग मेरी एक झलक पाने के लिए बेकाबू हो उठे थे और पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा था। नेताजी ने अपने कर कमलों से किसी नयी योजना का शिलान्यास जो किया था। बाद में अपने वादे का सारा दायित्व मुझ पत्थर पर डाल कर वे सब भूल गए। बस, नेताजी के किए की सजा मुझे मिल रही है। लोग जब मेरे ऊपर थू-थू करते हैं तब जैसे मैं यही सीख लेता हूं कि चाहे कोई और मुझे छू ले पर मुझे नेताजी न छुएं। नेताजी के छूने से मैं लोगों की नज़रों में अपवित्र हो गया हूं। ठोकरें ही ठोकरें मिल रही हैं। कहां जाऊं? अपने नेताजी से पूछो कि अब शिलान्यास कहां होगा।’ यह कह कर दोनों पत्थर खिलखिलाने लगे।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Opinion

जीत के फार्मूले की तलाश में राहुल

कांग्रेस को फिलहाल ऐसे उम्मीदवारों को मैदान में उतारने की जरूरत है, जो चुनाव जीतने में सक्षम हों। यह ऐसा क्षेत्र है, जहां पार्टी में आत्मविश्वास की कमी है।

17 अक्टूबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

आज का पंचांग: गुरुवार को करेंगे ये काम तो बाधाएं होंगी दूर

गुरुवार को लग रहा है कौन सा नक्षत्र और बन रहा है कौन सा योग? दिन के किस पहर करें शुभ काम? जानिए यहां और देखिए पंचांग गुरुवार 18 अक्टूबर 2018।

18 अक्टूबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree