विज्ञापन
विज्ञापन

चौतरफा दबाव से घिरीं दीदी : भारतीय राजनीति में तूफान खड़ा कर देनी वाली नेता कितनी कमजोर हो चुकी हैं

ajay boshअजय बोस Updated Wed, 26 Jun 2019 02:28 AM IST
अजय बोस, वरिष्ठ पत्रकार
अजय बोस, वरिष्ठ पत्रकार - फोटो : a
ख़बर सुनें
पिछले हफ्ते राज्य के हड़ताली डॉक्टरों को आंदोलन खत्म करने के लिए राजी करने के वास्ते पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को जिस तरह से उनके आगे झुकना पड़ा, उससे पता चलता है कि भारतीय राजनीति में तूफान खड़ा कर देनी वाली नेता कितनी कमजोर हो चुकी हैं।
विज्ञापन
कुछ दिन पहले ही उन्होंने डॉक्टरों से कहा था कि वे काम पर नहीं लौटे, तो उन्हें बर्खास्त कर दिया जाएगा। ऐसे में यह कदम उस नेता के लिए अपमानजनक कहा जा सकता, जिन्हें किसी टकराव में पीछे हटते नहीं देखा गया। यह दिखाता है कि हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी के खराब प्रदर्शन और राज्य में भाजपा से मिल रही कड़ी चुनौती के कारण किस तरह से उनका आत्मविश्वास डगमगा गया है।

पिछले कई वर्षों से दीदी के करीबी रहे एक नेता ने निजी बातचीत में स्वीकार किया कि उनके लंबे उतार-चढ़ाव भरे रहे करियर में वह कभी ऐसे दबाव में नहीं दिखीं, जैसी वह आज नजर आ रही हैं। यह गौर करने लायक है कि तृणमूल कांग्रेस की जो तेजतर्रार नेता कभी चुनौतियों से टकराने में पीछे नहीं रहती थीं, आज ऐसा लगता है कि अपने विपक्षियों से मुकाबला करने को लेकर दुविधा में हैं।

डॉक्टरों की हड़ताल को लेकर पहले तो उन्होंने अनावश्यक रूप से अड़ंगा लगाया और फिर जिस तरह से उन्होंने उनके आगे समर्पण किया, उससे पता चलता है कि उनकी ढीली होती पकड़ किस तरह से उनके प्रशासनिक नियंत्रण और राजनीतिक इच्छा शक्ति दोनों को ही प्रभावित कर रही है।

वास्तव में 2011 में ताकतवर मार्क्सवादी साम्राज्य को परास्त करने के बाद से ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल के राजनीतिक परिदृश्य पर इस तरह से प्रभुत्व कायम कर लिया था कि वह अब यह स्वीकार करने को तैयार नहीं दिख रही हैं कि राजनीतिक नियति का पहिया एक बार फिर घूम रहा है और इस बार उसके नीचे वह खुद और उनकी पार्टी आ गई है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री दोहरे जोखिम का सामना कर रही हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

शेयर मार्केट, अब नहीं रहेगा गुत्थी
Invertis university

शेयर मार्केट, अब नहीं रहेगा गुत्थी

समस्या कैसी भी हो, पाएं इसका अचूक समाधान प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से केवल 99 रुपये में
Astrology Services

समस्या कैसी भी हो, पाएं इसका अचूक समाधान प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्यों से केवल 99 रुपये में

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

सुषमा स्वराज से लेकर अरुण जेटली तक, राजधानी के रणनीतिकारों को भुलाया नहीं जा सकता

मई, 2014 के बाद की कहानी सबको पता है। प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी ने उन्हें वित्त मंत्री बनाया था और रक्षा तथा सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय जैसी अहम जिम्मेदारी भी दी थी।

25 अगस्त 2019

विज्ञापन

UAE ने पीएम मोदी को 'ऑर्डर ऑफ जायद' से नवाजा, बौखलाए पाकिस्तानी ट्विटर पर#ShameOnUAE चला रहे

यूएई द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपने सर्वोच्च सम्मान से सम्मानित किया जाना पाकिस्तान को रास नहीं आ रहा देखिए ये रिपोर्ट

25 अगस्त 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree