विज्ञापन
विज्ञापन

कायम है सोने का जादू : भारत सरकार की नीतियों से यह महंगा तो हो ही रहा था

मधुरेन्द्र सिन्हा Updated Sat, 27 Jul 2019 01:33 AM IST
सोना (फाइल फोटो)
सोना (फाइल फोटो) - फोटो : social media
ख़बर सुनें
सोना अब फिर बहुमूल्य हो गया है, कीमती और दुर्लभ। भारत सरकार की नीतियों से यह महंगा तो हो ही रहा था, लेकिन अब अमेरिका के कारण यह अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी महंगा होता जा रहा है। इसके बावजूद भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा सोना आयातक देश बना हुआ है। कई वर्षों तक वह दुनिया का सबसे बड़ा आयातक देश रहा, लेकिन अब चीन उससे आगे निकल गया है। भारतीयों का सोने के प्रति मोह भंग नहीं होता है और वे सोना खरीदने में परहेज नहीं करते।
विज्ञापन
हमारी परंपराएं भी ऐसी हैं कि सोना खरीदना मजबूरी भी है। अक्षय तृतीया, धन तेरस जैसे पर्व पर हमारे यहां सोना खरीदने का चलन तो है, हम बेटियों के ब्याह में भी सोना खरीदते ही हैं। महिलाएं अपनी सुंदरता में चार चांद लगाने के लिए स्वर्णाभूषण खरीदती ही हैं। यानी सोना खरीदने की पूरी वजहें हैं। इतना ही नहीं, भविष्य में आने वाले बुरे वक्त के लिए भी सोना खरीदना अच्छा माना जाता है। सोना एक बढ़िया निवेश भी है।

पहले सरकारें सोने पर टैक्स बढ़ाने से बचती थीं, लेकिन पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सोने पर कस्टम शुल्क बढ़ाकर 10 प्रतिशत कर दिया और इस बार निर्मला सीतारमण ने ढाई प्रतिशत और बढ़ोतरी कर दी। यानी कुल 12.5 प्रतिशत। इसके अलावा तीन प्रतिशत जीएसटी भी है। इतने सारे टैक्स के कारण भारत और अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने की कीमतों में पांच लाख रुपये प्रति किलो से ज्यादा का फर्क पड़ गया है।

इसका बुरा असर सोने तथा इसके आभूषणों की बिक्री पर पड़ा और इसमें 10 प्रतिशत की गिरावट आ गई है और ज्वेलरी उद्योग मंदी के दौर में आ गया है, जिससे यहां रोजगार घटता जा रहा है। टैक्स बढ़ाने का सरकार का यह फैसला इस तर्क पर आधारित है कि इससे सोने का आयात घटेगा और राजस्व घाटे में कमी आएगी।

साथ ही रुपये के मूल्य में गिरावट थमेगी। इतना ही नहीं, सरकार चाहती है कि लोग सोने के बजाय उत्पादक वस्तुओं में निवेश करें। लेकिन इसका नकारात्मक असर पड़ रहा है। ईमानदारी से व्यवसाय करने वाले कारोबारियों के सामने बड़ा संकट खड़ा हो गया है। उनका कहना है कि इस तरह से तो सरकार के टैक्स वसूली का लक्ष्य पूरा नहीं हो सकता।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय
Invertis university

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

संजय दत्त की फिल्म प्रस्थानम को मिली दर्शकों की तारीफ, मनीषा कोइराला भी आईं पसंद

संजय दत्त की फिल्म प्रस्थानम को दर्शकों ने काफी पसंद किया है। हालांकि इस फिल्म को लेकर दर्शकों की अपनी-अपनी राय है।

21 सितंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree