विज्ञापन
विज्ञापन

नई जमीनें खोजता प्रेम

मनीषा सिंह Updated Thu, 18 Apr 2019 06:37 PM IST
मनीषा सिंह
मनीषा सिंह
ख़बर सुनें
अक्सर कहा जाता है कि आधे मन से किया गया गया कोई प्रयास कभी वह प्रभाव नहीं छोड़ता, जो पूरे मन से किया गया काम छोड़ता है। इधर जब आईआईटी, बॉम्बे से बीटेक पास राजस्थान के कनिष्क कटारिया ने सिविल सेवा परीक्षा-2018 में शीर्ष स्थान हासिल किया, तो एक सवाल के जवाब में उन्होंने इस सफलता का श्रेय अपने माता-पिता, बहन और प्रेमिका की मदद व नैतिक समर्थन को दिया। अपने माता-पिता और स्वजनों का स्मरण तो हर कोई ऐसे मौके पर करता है, पर खास तौर से प्रेयसी (गर्लफ्रेंड) को इसका श्रेय देने का दुस्साहस और आगे बढ़कर मौका पड़े, तो उससे शादी करने का प्रयास विरले ही कर पाते हैं। लेकिन कनिष्क ने पूरे मन से दोनों काम किए, करियर में आगे बढ़ने की पहल और प्रेम व उसका उद्घोष। इसीलिए जब उन्होंने प्रेमिका को अपनी सफलता का श्रेय देने का प्रयास किया, तो इससे जहां कुछ सवाल पैदा हुए वहीं कुछ उम्मीदें भी उस प्रेम को लेकर जगीं, जिसकी जमीनें इधर दहेज जैसे बंधनों ने बंजर कर दी हैं और करियर में सहयोगी से प्रेम को मीटू जैसे अभियानों की बदौलत आशंकाओं की अमरबेल खाने लगी है।
विज्ञापन
विज्ञापन
अगर यह कहें कि मजहब तक की दीवारें तोड़ करियर में सहयोगी के प्रेम को स्वीकारने और उसे निबाहने की इधर एक परंपरा कम से कम यूपीएससी की जमीन पर पैदा कुछ अंकुरों ने शुरू की है, तो शायद गलत नहीं होगी। एक किस्सा साल 2015 के यूपीएससी टॉपर टीना डाबी और दूसरे नंबर आए अतहर का है, जिन्होंने तीन साल चले प्रेम के बाद पिछले बरस पहलगाम में शादी रचाई थी।

वह दौर अपने देश में ज्यादा नहीं चला, जब कहा जाता था कि लड़कियों की अच्छी पढ़ाई-लिखाई और अच्छे करियर का मतलब यह है कि मां-बाप उनकी शादी को लेकर निश्चिंत हो सकते थे। कहा जाता था कि आईटी, बैंकिंग और प्रबंधन में अच्छी नौकरियां पाने वाली लड़कियों के विवाह में कोई दिक्कत नहीं आएगी और उन्हें दहेज जैसी समस्या का भी सामना नहीं करना पड़ेगा। माना गया कि पढ़ी-लिखी और अच्छे करियर में जाने वाली लड़कियों को या तो सहयोगियों के बीच से ही कोई योग्य जीवनसाथी मिल जाएगा या फिर जाति-समाज के बंधनों के बीच किए गए रिश्तों में उनकी शादी दहेज आदि झंझटों से मुक्त हो जाएगी। पर उम्मीदें जगाती इन धारणाओं के उस वक्त पुर्जे-पुर्जे हो गए, जब दहेज नई शक्लों में लौट आया। जैसे, सीधे-सीधे कैश या कार और महंगे तोहफों की मांग करने के बजाय लड़की के परिजनों से कहा जाने लगा कि शादी अगर किसी फाइव स्टार होटल में हो और डेस्टिनेशन वेडिंग जैसी भव्य साज-सज्जा वाली हो, तो बेहतर होगा। कुछ वर्ष पहले शादी कराने वाली एक मेट्रीमोनियल वेबसाइट (शादीडॉटकॉम) ने देश के 18 राज्यों में 30 हजार युवाओं में एक सर्वे कराया था, जिसमें दो-तिहाई (74 फीसदी) ने कहा था कि गर्लफ्रेंड-ब्वॉयफ्रेंड के इस जमाने में भी वे शादी अपने मां-बाप की मर्जी से यानी अरेंज्ड मैरिज करेंगे।

अरेंज्ड मैरिज क्यों? इस सवाल की तह में जाने से पता चला कि इसमें दान-दहेज की गुंजाइश बनती है। यह एक विडंबना ही है कि आज का जो युवा अपनी पढ़ाई-नौकरी से लेकर अपनी लाइफ स्टाइल तक में मां-बाप और समाज का दखल नहीं चाहता, वह शादी का मामला उठते ही अचानक रूढ़िवादी होने लगता है।

बेशक, ऐसी सारी मुश्किलों के बीच टीना डाबी के बाद कनिष्क कटारिया जैसे पढ़े-लिखे और कामयाबी का शीर्ष छूने वाले युवाओं ने जो नजीरें पेश की हैं, उन्हें देखते हुए यह आस जगती है कि सहपाठियों-सहकर्मियों के बीच इधर लगभग मर चुके प्रेम को नए प्राण मिलेंगे और ये अंकुर पल-बढ़कर तमाम आशंकाएं खारिज करते हुए खास तौर से लड़कियों की मुश्किल होती जिंदगी को नई उम्मीदें बंधाएंगे।

Recommended

इन्वर्टिस यूनिवर्सिटी में 'अभिरुचि' से निखारी जाती है छात्रों की प्रतिभा
Invertis university

इन्वर्टिस यूनिवर्सिटी में 'अभिरुचि' से निखारी जाती है छात्रों की प्रतिभा

समस्या कैसे भी हो, हमारे ज्योतिषी से पूछें सवाल और पाएं जवाब मात्र 99 रूपये में
Astrology

समस्या कैसे भी हो, हमारे ज्योतिषी से पूछें सवाल और पाएं जवाब मात्र 99 रूपये में

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

उल्टी पड़ी पाकिस्तान की रणनीति

कुलभूषण जाधव के मामले में पाकिस्तान आईसीजे के फैसले का पालन नहीं करेगा। ऐसे में, जिस बलूचिस्तान के मुद्दे पर उसने जाधव को फांसी की सजा सुनाई, उसे विश्व मंचों पर उठाने का यह अच्छा मौका है।

18 जुलाई 2019

विज्ञापन

बिजली चोरी रोकने के लिए मोदी सरकार का मेगा प्लान तैयार

बिजली चोरी रोक कर 24 घंटे बिजली सप्लाई करने का बड़ा प्लान नरेंद्र मोदी सरकार ने तैयार किया है। खबरों की माने तो मोदी सरकार 3 स्तरीय प्लान में ईमानदार बिजली ग्राहकों को 24 घंटे बिजली सप्लाई करेगी।

18 जुलाई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree