विज्ञापन
विज्ञापन

लोकसभा चुनाव 2019: वोट बैंक बचाने की लड़ाई

तवलीन सिंह Updated Mon, 22 Apr 2019 11:53 AM IST
लोकसभा चुनाव 2019
लोकसभा चुनाव 2019
ख़बर सुनें
अपने देश में धर्मनिरपेक्षता के दस्तूर अद्भुत हैं। जब से भारत के टुकड़े करके पाकिस्तान बनाया गया था, तबसे हमारे ‘सेक्यूलर’ राजनेताओं ने जैसे तय कर लिया है कि मुसलमानों के खिलाफ कुछ बोलना सांप्रदायिक है, लेकिन हिंदुओं के खिलाफ कुछ कहना साबित करता है कि आप कितने सेक्यूलर किस्म के व्यक्ति हैं। ऐसा करके उन राजनीतिक दलों ने चुनावों में मुसलमानों का वोट बटोरने का दशकों से लाभ उठाया है। पहले सिर्फ कांग्रेस को इस मुस्लिम ‘वोट बैंक’ का लाभ मिलता था, फिर जब सपा और बसपा जैसे दल बने, तो उन्होंने इस वोट बैंक को चुरा लिया।
विज्ञापन
विज्ञापन
सो मायावती ने अपना चुनाव अभियान देवबंद की एक आम सभा में मुसलमानों से यह कहकर आरंभ किया कि उनको इस बार अपना वोट बांटना नहीं है। उन्होंने चिंता व्यक्त की कि उत्तर प्रदेश में यह महत्वपूर्ण और शक्तिशाली मुस्लिम वोट बैंक बंटकर कांग्रेस को भी जा सकता है, जिसका उनके महागठबंधन को सीधा नुकसान होगा। मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव में भी कुछ इस तरह की बात उस व्यक्ति ने की थी, जो आज उस राज्य के मुख्यमंत्री हैं। इस वोट बैंक को बचाने की स्पर्धा में अब नवजोत सिंह सिद्धू भी कूद पड़े हैं। अच्छा हुआ कि चुनाव आयोग ने इस तरह की भाषा पर प्रतिबंध लगाने का काम किया है, पर ऐसे भाषणों के पीछे जो यथार्थ है, उसका पर्दाफाश करने की आवश्यकता है।

यथार्थ यह है कि 1947 से लेकर आज तक मुसलमानों को धर्मनिरपेक्षता के नाम पर बेवकूफ बनाया गया है। ‘सेक्यूलर’ राजनेताओं ने मुसलमानों को मंदिर-मस्जिद और धर्म-मजहब के झगड़ों में इतना उलझा कर रखा है कि वे खुद अपनी असली समस्याएं भूल से गए हैं। मुसलमानों की असली समस्याएं हैं, शिक्षा, रोजगार का अभाव और गरीबी की बेड़ियों में इतना जकड़ कर रह जाना कि दलितों के अलावा मुस्लिम समाज को भारत में सबसे गरीब माना जाता है। इन मुद्दों को लेकिन कोई उठाने वाला नहीं है, क्योंकि इस समाज का नेतृत्व उन मौलवियों के हाथों में रहा है, जो राजनीतिक दलों को वोट दिलाने का काम करते आए हैं।

ऐसा करने से सेक्यूलर राजनीतिक दलों के अलावा सबसे अधिक फायदा मौलवियों और कटरपंथी सोच रखनेवाले मुस्लिम राजनेताओं ने उठाया, जो अपनी कौम को गुमराह करने में माहिर हैं। सो दूर किसी देश में किसी मस्जिद को नुकसान होता है, तो देश में हजारों की तादाद में मुसलमान निकल आते हैं सड़कों पर प्रदर्शन करने। पर आज तक कभी इनको उन बातों पर आक्रोश करते नहीं देखा, जो उनकी असली समस्याएं हैं। नतीजा यह कि जब भी मैं अपने चुनावी दौरों पर निकलती हूं, तो यह देखकर दुख होता है कि चाहे राजस्थान हो, उत्तर प्रदेश हो या बिहार, सबसे बेहाल बस्तियां या गांव मुसलमानों के होते हैं।

अफसोस की बात है कि नरेंद्र मोदी ने अपना सबसे महत्वपूर्ण वादा नहीं निभाया। उनके कार्यकाल में अगर सबका साथ, सबका विकास हुआ होता, तो गोरक्षकों की हिंसा पर लगाम लगती और शायद आज मुसलमानों को यकीन होने लगता कि सेक्यूलर राजनेताओं ने उन्हें सिर्फ वोट बैंक बनाकर रखा है। अफसोस की बात यह है कि गोरक्षकों की हिंसा के कारण और प्रधानमंत्री के इस हिंसा के बाद मौन रहने के कारण मुसलमान इस चुनाव में भी उन राजनीतिक दलों के वोट बैंक बन गए हैं, जिन्होंने उनके लिए कुछ नहीं किया है। भाजपा के आला नेता आज कहते फिर रहे हैं कि उन्होंने सबका विकास किया है, लेकिन जब जान की सुरक्षा ही नहीं रहती, तब विकास कोई मतलब नहीं रखता।

Recommended

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए
Lovely Professional University

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए

लाख प्रयास के बावजूद  नहीं मिल रही नौकरी? कराएं शनि-केतु शांति पूजा- 29 जून 2019
Astrology

लाख प्रयास के बावजूद नहीं मिल रही नौकरी? कराएं शनि-केतु शांति पूजा- 29 जून 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

हमारी नौसेना को पनडुब्बियां चाहिए

रक्षा कर्णधारों ने 1999 में तय किया था कि 2030 तक नौसेना के पास 24 पनडुब्बियां होनी चाहिए। पर अगले दशक के अंत तक उसके पास करीब एक दर्जन पनडुब्बियां ही रहेंगी, जो हिंद और प्रशांत महासागरों की रक्षा के लिए नाकाफी होंगी।

25 जून 2019

विज्ञापन

पीएम मोदी ने गालिब के जिक्र के साथ सुनाया जो शेर वो गालिब का है ही नहीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा का जवाब दिया। राज्यसभा में पीएम मोदी का शायराना अंदाज देखने को मिला।

26 जून 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
सबसे तेज अनुभव के लिए
अमर उजाला लाइट ऐप चुनें
Add to Home Screen
Election