कथा / लघुकथाः कहीं विश्वास ही उठ जाए

Varun Kumar Updated Tue, 14 Aug 2012 05:31 PM IST
Faith
ब्रजेश कानूनगो
भगवान महावीर की विशाल प्रतिमा को प्रणाम करके मंदिर से बाहर आकर भारतीदेवी धीरे-धीरे अपने घर की ओर बढ़ने लगीं। सत्तर वर्ष की विदुषी का यह नित्य कर्म था। जब से इस कॉलोनी के मकान में रहने आए, वे अकेले ही दर्शन को चली आती हैं। यह बड़ा अच्छा रहा कि यहां पहले से मंदिर बना हुआ था, अन्यथा शहर के मकान से तो किसी को रोज साथ लेकर ही जाना पड़ता था।

अपने विचारों मे डूबी वे मंदिर से कोई सौ कदम आगे जैसे ही अपनी गली में दाखिल होने के लिए मुड़ने लगीं, सामने से मोटर साइकिल पर दो पुलिस जवान आते दिखाई दिए। दोनों बड़ी हड़बडी और जल्दबाजी में लग रहे थे। उन्होने भारतीदेवी के समीप आकर अंपनी बाइक रोक दी और कहने लगे, ' माताजी कुछ खबर है कि नहीं, इसी गली में पुष्पा मैडम की किसी ने हत्या कर दी है, डाका भी पड़ा है, जरा सावधान रहना और हां, ये आपके कंगन, चेन भी निकालकर अलग रख लो, कहीं भगदड़ में कोई झपट न ले।'

पुष्पा मैडम की हत्या! भारतीदेवी हतप्रभ रह गईं, अरे वह तो उनकी पड़ोसी है! सुधबुध खोकर वे गले में पहनी चेन खोलकर जल्दी-जल्दी हाथों के कंगन उतारने लगीं। एक पुलिसकर्मी ने उनके गहने लेकर अपने रुमाल में लपेटकर भारतीदेवी को थमा दिए। इसके पहले कि वह गहनों की पोटली अपने पल्लू में बांधतीं, बाइक चौराहे की ओर तेजी से दौड़ गई।

कुछ देर बाद भारतीदेवी ने अपने को संभाला, तो आशंका से भर गईं कि कहीं वे भी उन ठगों का शिकार तो नहीं हो गई हैं, जो पुलिस बनकर बुजुर्ग महिलाओं को अपना निशाना बनाते रहे हैं।

तुरंत पोटली खोलकर देखी, सचमुच रूमाल में लोहे की चूड़ियां तथा तार के टुकडे़ बंधे हुए थे। वे चीख पड़ीं। माथे पर पसीने की बूंदें उभर आईं, लगा अभी चक्कर खाकर गिर पड़ेंगी। किसी तरह अपने को संयत करने लगीं। उनके आसपास तब तक भीड़ जमा हो गई थी। लोग पूछ रहे थे-'क्या हो गया माताजी ? क्या किसी ने टक्कर मार दी है?

'नही, टक्कर नही हुई है, जेवर ठग कर ले गए मोटर साइकिल वाले।' बड़ी मुश्किल से वे बोल पाईं। 'क्या पुलिसवाले थे माताजी?' किसी ने पूछा। भारतीदेवी को अनायास बचपन में पढ़ी एक कहानी याद आ गई। कहीं ऐसा ना हो कि लोगों का पुलिस पर से विश्वास ही उठ जाए, बरबस उनके मुंह से निकला-'नहीं वे पुलिसवाले नहीं, कोई बदमाश थे।'

Spotlight

Most Read

Opinion

सुशासन में नागरिक समाज की भूमिका

सुशासन को अमल में लाने के लिए नागरिक समाज का अहम स्थान है, क्योंकि यही समाज की क्षमता में वृद्धि करते हैं और उसे जागरूक बनाते हैं। यही सरकार या राज्य को आगाह करते हैं कि कैसे नागरिकों की भागीदारी से उनका संपूर्ण विकास किया जाए।

19 जनवरी 2018

Related Videos

केजरीवाल के सियासी करियर का "काला दिन" समेत शाम की 10 बड़ी खबरें

अमर उजाला टीवी पर देश-दुनिया की राजनीति, खेल, क्राइम, सिनेमा, फैशन और धर्म से जुड़ी खबरें दिन में चार बार LIVE देख सकते हैं, हमारे LIVE बुलेटिन्स हैं - यूपी न्यूज सुबह 7 बजे, न्यूज ऑवर दोपहर 1 बजे, यूपी न्यूज शाम 7 बजे

19 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper