विज्ञापन
विज्ञापन

दिल्ली, हरियाणा, महाराष्ट्र और झारखंड में विधानसभा चुनाव से पहले पसोपेश में कांग्रेस

रशीद किदवई, वरिष्ठ पत्रकार Updated Tue, 17 Sep 2019 12:40 AM IST
कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक (फाइल फोटो)
कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक (फाइल फोटो) - फोटो : PTI
ख़बर सुनें
हरियाणा, महाराष्ट्र और झारखंड में होनेवाले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के लिए संभावनाएं न के बराबर हैं, लेकिन वह इन तीनों राज्यों की गैर भाजपा दलों से हाथ मिलाना चाहती है, ताकि चुनाव में भाजपा को कड़ी चुनौती दी जा सके। दरअसल लोकसभा चुनाव में खासकर उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा की विफलता ने समूचे विपक्ष का उत्साह खत्म कर दिया है। संसद के भीतर भी न तो तीन तलाक के मुद्दे पर विपक्ष का एकजुट तालमेल देखा गया और न ही हाल में गठित संसदीय समितियों में जगह पाने के लिए उसने कोई उत्साह दिखाया। तृणमूल नेताओं के प्रति सत्तारूढ़ दल का रवैया सही नहीं, लेकिन सरकारी नीतियों का विरोध करती अकेली तृणमूल ही दिखाई पड़ी।
विज्ञापन
महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड में बसपा की कमोबेश उपस्थिति है। लेकिन इन चुनावों में किसी के साथ गठबंधन करने के बजाय वह अकेले ही लड़ेगी। बसपा सुप्रीमो मायावती चुपचाप बैठी हुई नहीं हैं। इसके बजाय वह इन राज्यों के पारंपरिक जनाधार को एकजुट करना चाहती है। यह घटनाक्रम उस कांग्रेस के लिए बुरी खबर है, जिसने हरियाणा में अपनी एक दलित नेता सैलजा को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बनाया है। हरियाणा कांग्रेस में किसी तरह की टूट को टालने के लिए भुपेंद्र सिंह हुड्डा को पार्टी में बनाए रखा गया है। इसके बावजूद कांग्रेस को हरियाणा में बीस या उससे अधिक सीटें पाने के लिए बहुत संघर्ष करना पड़ रहा है।

अब जब महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए तैयार हो रहा है, तब अपने नेताओं को लगातार पालाबादल कर भाजपा में जाते हुए देखती कांग्रेस हैरान है कि मराठा वोटों पर निर्भरता के सहारे वह सत्तारूढ़ भाजपा-शिवसेना को चुनौती दे भी पाएगी या नहीं। महाराष्ट्र में कांग्रेस एनसीपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ने जा रही है। 1999 से कांग्रेस ने एनसीपी के साथ मिलकर तीन लगातार चुनाव लड़े हैं। लेकिन 2014 के विधानसभा चुनाव में चुनाव की घोषणा होने से कुछ घंटे पहले एनसीपी ने अकेले चुनाव लड़ने का एलान कर कांग्रेस को अधर में छोड़ दिया था।

कांग्रेस-एनसीपी के कटु विवाद से पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा को भारी लाभ हुआ और सीटों के मामले में उसने अपने सहयोगी शिवसेना को बहुत पीछे छोड़ दिया था। 288 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा ने 122 सीटें जीती थीं, जबकि शिवसेना को 62 सीटें ही मिली थीं। जबकि कांग्रेस और एनसीपी को क्रमशः 42 और 41 सीटें मिली थीं।

हालांकि इन दिनों कांग्रेस और एनसीपी, दोनों ही अपने नेताओं के पालाबदल से मुश्किल में है। वरिष्ठ एनसीपी नेता और छत्रपति शिवाजी के वंशज उदयनराजे भोंसले के भाजपा में शामिल हो जाने से एनसीपी और कांग्रेस, दोनों ही स्तब्ध हैं। उर्मिला मातोंडकर भले ही राजनीति में नई थीं, लेकिन उनके और निष्ठावान कृपाशंकर सिंह के कांग्रेस छोड़कर चले जाने से कांग्रेस का संकट बढ़ गया है। लगातार यह अटकल है (हालांकि इसके पक्ष में कोई ठोस तर्क नहीं है) कि अशोक चव्हाण और मिलिंद देवड़ा जैसे शीर्ष नेता भी कोई अकल्पनीय कदम उठा सकते हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

vivo Grand Diwali Fest: vivo के स्मार्टफोन पर 11,000 रुपये तक की छूट
vivo smartphone

vivo Grand Diwali Fest: vivo के स्मार्टफोन पर 11,000 रुपये तक की छूट

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

इस वजह से सरकारी स्कूलों से भंग होता है छात्रों-अभिभावकों का मोह

नीति आयोग द्वारा तैयार किया गया स्कूल एजुकेशन क्वालिटी इंडेक्स इन दिनों राष्ट्रव्यापी चर्चा का विषय बना हुआ है। हालांकि इस इंडेक्स में अप्रत्याशित जैसा कुछ भी नहीं है।

14 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

बिहार के सहरसा में आरजेडी की रैली में हाथापाई, मंच से सब देखते रहे तेजस्वी यादव

बिहार के सहरसा में राष्ट्रीय जनता दल की रैली में हंगामा और जमकर हाथापाई हुई। जिसके बाद पुलिस को हालात काबू में करने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी। वहीं तेजस्वी यादव मंच से ये सब देखते रहे।

13 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
)