विज्ञापन
विज्ञापन

धर्म की राह का रोड़ा है माया

Yashwant Vyas Updated Wed, 01 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
धर्मशास्त्रों में लिखा है कि धन-माया किसी भी व्यक्ति का सुख-चैन ले सकती है। संत व्यक्ति भी इस मोह माया के चक्कर में अपनी बौद्धिक संपत्ति गवां बैठता है, इसलिए इससे हरसंभव दूर रहने का प्रयास करना चाहिए।
विज्ञापन
विज्ञापन
एक झोंपड़ी में एक विरक्त संत रहते थे। सूर्योदय से पूर्व उठकर वह स्नान करते और भगवान के ध्यान में मग्न हो जाते।

एक दिन वह ध्यान में बैठे हुए थे। आंखें खुलीं कि सामने कुछ रुपये रखे दिखाई दिए। कोई दर्शनार्थी उनके चरणों में रुपये रखकर चला गया था। उन्होंने रुपये देखे, तो उनके मन में रुपयों के उपयोग के बारे में तरह-तरह के प्रश्न उठने लगे। इन रुपयों को किसी जरूरतमंद को दे दें। फिर सोचा कि गरीबों को कपड़े खरीदवा दें। उन्होंने जीवन में कभी रुपयों को छुआ नहीं था। इन रुपयों ने उन्हें धन के उपयोग के बारे में सोचने को विवश कर दिया।

संत उठे और दूसरी कुटिया में रहने वाले एक अन्य संत के पास पहुंचे। उन्होंने पूछा, महाराज कोई भक्त रुपये रख गया है, उनका उपयोग किस कार्य में किया जाए? संत जी ने कहा, स्वामी जी, रुपयों को आपने छुआ भी नहीं कि जिस हृदय में आप भगवान की उपस्थिति का एहसास करते थे, उसमें इस थोड़े से धन ने हलचल मचा दी। मेरा कहा मानें, रुपयों पर गोबर डाल दें और सूख जाने पर गोबर समेत उन्हें उठाकर पास की नदी में फेंक दें। संत ने ऐसा ही किया। अब उनका हृदय पूर्ववत भगवान के चिंतन में लग गया था।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

मोदी पर रायशुमारी

अब जनता ने उन्हें दोबारा मौका दिया है, उन्हें राष्ट्र निर्माण के अधूरे काम को पूरा करना चाहिए। अपनी ऐतिहासिक जीत के बाद मोदी को विपक्षी पार्टियों के विरोधी विचारों पर भी ध्यान देना चाहिए।

24 मई 2019

विज्ञापन

पीएम मोदी की तरह सबके दिलों में बसी उनकी फिल्म, लोगों ने कहा 'फिल्म के जरिए जान जाएंगे उनका काम'

तमाम विवादों के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जिंदगी पर आधारित फिल्म 'पीएम नरेंद्र मोदी' देशभर में रिलीज हो गई है। फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर अच्छा रिस्पांस मिल रहा है। चलिए जानते हैं फिल्म देखकर आए लोगों का क्या रिएक्शन है इसपर।

24 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree