विज्ञापन

पाप से घृणा करो पापी से नहीं

Yashwant Vyas Updated Thu, 19 Jul 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
केवल भारतीय धर्मग्रंथों में नहीं, बल्कि सभी पंथों के ग्रंथों में कहा गया है कि मनुष्य को क्षमाशील होना चाहिए। उसे एक-दूसरे के प्रति सेवा भावना और गरीब-असहाय व्यक्ति की मदद करने को लेकर हमेशा प्रयत्नशील होना चाहिए। एक बार ईसा भ्रमण करते-करते एक नगर में पहुंचे। अनेक व्यक्ति उनके सत्संग में आते तथा उनके उपदेशों से प्रभावित होकर लौटते।
विज्ञापन
विज्ञापन
नगर का साहूकार शहीन यहूदी धर्मात्मा व्यक्ति था। उसने ईसा को भोजन के लिए आमंत्रित किया। ईसा ने भोजन के बाद उसे जीवन में धैर्य तथा क्षमा जैसे गुण अपनाने का उपदेश दिया। इसी नगर की एक नगरवधु मेरी भी ईसा के प्रवचनों से प्रभावित हुई। उसने भी साहस कर ईसा को भोजन का आमंत्रण दिया। सरल हृदय ईसा आमंत्रण स्वीकार कर उसके घर भी चले गए।

ईसा के कुछ शिष्यों में चर्चा होने लगी कि प्रभु को एक बदनाम महिला के घर भोजन करने नहीं जाना चाहिए था। इससे उनकी गरिमा पर आंच आ सकती है। ईसा के कानों में यह बात पहुंची, तो उन्होंने शिष्यों को बुलाया और उन्हें उपदेश दिया, हमें पापी से नहीं, पाप से बचना चाहिए। सत्संग का उद्देश्य ही यह है कि आदमी बुरे कामों को छोड़ दे तथा प्रायश्चित कर अच्छा बन जाए। यदि बुहारी (झाड़ू) गंदगी तक नहीं पहुंचेगी, तो सफाई कैसे करेगी? और उसी दिन मेरी ने भी संयमपूर्वक रहने और लोगों की सेवा करने का संकल्प लिया। वह रोगियों की सेवा में जुट गईं।

Recommended

क्या कारोबार में लगाया हुआ धन फंस जाता है ? करें उपाय
ज्योतिष समाधान

क्या कारोबार में लगाया हुआ धन फंस जाता है ? करें उपाय

जानें क्यों कायम है आपकी नौकरी पर संकट?
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों कायम है आपकी नौकरी पर संकट?

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

निर्णय लेने की हिम्मत

दूसरी बार मोदी सरकार बनने की संभावनाएं क्यों बढ़ गई हैं? इसका कारण है मोदी का बालाकोट में हवाई हमले करवाना। राहुल ने इसका श्रेय सिर्फ वायुसेना को देने की कोशिश की, पर जनता समझ चुकी है कि असली हिम्मत निर्णय लेने वाला दिखाता है।

17 मार्च 2019

विज्ञापन

प्रधानमंत्री को ही क्यों होता है हवाई जहाज से चुनाव प्रचार करने का अधिकार

देश में आम चुनाव होने को हैं सभी पार्टियां अपना प्रचार जोर-शोर से कर रही हैं। देश की जनता को रिझाने की कोशिश कर रही हैं। इन सभी पार्टियों के बीच अकेला प्रधानमंत्री ही होता है जो प्रचार के लिए सरकारी विमान का इस्तेमाल कर सकता है।

19 मार्च 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree