विज्ञापन

हीरे और कंकड़ में फर्क नहीं

Yashwant Vyas Updated Wed, 18 Jul 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
धर्मशास्त्रों में कहा गया है कि जो मनुष्य विरक्त होकर ईश्वर की साधना में लगा रहता है, लोभ और मोह के बंधन में नहीं पड़ता, वह एक-न-एक दिन ईश्वर का साक्षात्कार जरूर करता है। ऐसे ही एक विरक्त संत पुरंदर हुए, जो भगवान के सच्चे भक्त तथा विरक्त प्रवृत्ति के महापुरुष थे।
विज्ञापन
विज्ञापन
विजयनगर के राजा कृष्णदेव ने गृहस्थ में रहते हुए भी उनके निर्लोभी होने की बात सुनी, तो उन्होंने संत पुरंदर की परीक्षा लेने का निर्णय किया। उन्होंने संत को दी जाने वाली भिक्षा के चावल में हीरे और रत्न मिलाकर देने का आदेश दिया। एक महीने तक यह क्रम चलता रहा। महीने के अंत में राजा वेश बदलकर संत पुरंदर के घर पहुंचे। उन्होंने दरवाजे में घुसते ही संत पुरंदर की पत्नी की आवाज सुनी। वह पति से कह रही थीं, आजकल आप किस गरीब के यहां से भिक्षा लाते हैं। वह चावलों में कंकड़ मिलाकर देता है। मैं उन्हें चुनते-चुनते परेशान हो जाती हूं।

राजा ने देखा कि कोठरी के एक कोने में उनके द्वारा दिए गए हीरे-मोती का ढेर लगा हुआ था। संत पुरंदर ने राजा को पहचान लिया। वह बोले, महाराज, मैं जानता था कि आप मेरी गरीबी को देखते हुए चुपचाप भिक्षा के चावलों में कुछ हीरा-मोती मिलाकर भेजते हैं, परंतु मुझ ब्राह्मण के लिए हीरे और कंकड़ में कोई अंतर नहीं है। आप इन्हें ले जाएं तथा गांव में मीठे पानी के कुएं खुदवा दें। इन हीरों की सार्थकता इसी में है। राजा संत की विरक्ति भावना के सामने नतमस्तक हो उठे।

Recommended

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से
ज्योतिष समाधान

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

आधा आकाश तुम्हारा है

मताधिकार और सत्ता राजनीति में महिलाओं का होना बहुत जरूरी है। पर अब वक्त आ गया है कि सरकारी नौकरियों में महिलाओं को 33 फीसदी आरक्षण की व्यवस्था हो। आर्थिक स्वतंत्रता ही उन्हें शक्तिशाली बनाएगी।

25 मार्च 2019

विज्ञापन

आज का पंचांग : 26 मार्च 2019, मंगलवार

मंगलवार को लग रहा है कौन सा नक्षत्र और बन रहा है कौन सा योग? दिन के किस पहर करें शुभ काम? जानिए यहां और देखिए पंचांग मंगलवार 26 मार्च 2019.

26 मार्च 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election