विज्ञापन

सेवा से बड़ा कोई धर्म नहीं

Yashwant Vyas Updated Mon, 16 Jul 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
नीतिशास्त्रों में कहा गया है कि असहायों और गरीबों की अपने हाथों से सेवा करना सच्चे धर्मों में एक है। अगर कोई भूखा है, तो उसे खाना खिलाना चाहिए और अगर कोई प्यासा है, तो पानी पिलाकर उसकी प्यास बुझानी चाहिए। संत बाबा भूमणशाह अपने गांव से गुजरने वाले यात्रियों को ठंडा पानी पिलाने, उन्हें भोजन कराने में संतोष का अनुभव करते थे। दीपालपुर नगर (पंजाब) की यह ख्याति थी कि वहां की सीमा से गुजरने वाला यात्री बिना भोजन किए नहीं जा सकता।
विज्ञापन
विज्ञापन
बाबा भूमणशाह मूक पशु-पक्षियों को अपने हाथ से चारा व दाना खिलाते-खिलाते राम नाम का उच्चारण करते, तो उनके भक्त भी पशु-पक्षियों की सेवा को तत्पर हो उठते थे। अनेक कुष्ठ रोगियों की सेवा-चिकित्सा कर बाबा ने उन्हें रोगमुक्त किया। बाबा के चमत्कारों की घटनाएं सुनकर एक बार लाहौर के कुछ धनी व्यक्ति बहुत सारा धन लेकर उनके डेरे पर पहुंचे। बाबा के दर्शन के बाद उन्होंने रुपये उनके चरण में रख दिए। बाबा बोले, मुझे आपके धन की कोई जरूरत नहीं है, अपने क्षेत्र में भंडारा शुरू करो। कोई भी व्यक्ति भूखा-प्यासा न रहे, बस इसे एकमात्र धर्म समझो।

बाबा की प्रेरणा से लाहौर के आसपास के गांवों में भंडारे शुरू हो गए। हजारों व्यक्ति भूखों को भोजन कराने के सच्चे मानवीय धर्म की ओर उन्मुख हुए। संत भूमणशाह की ख्याति सुनकर गुरु गोविंद सिंह भी उनके डेरे पर पधारे थे और उनके सेवा कार्य को सराहा था।

Recommended

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से
ज्योतिष समाधान

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

तेईस मार्च की विरासत

आज के दिन वर्ष 1931 में शहीद भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को फांसी दी गई थी। इसी दिन 1910 में देशज समाजवाद के प्रणेता राम मनोहर लोहिया का जन्म हुआ था। इसी दिन 1977 में इमरजेंसी की औपचारिक समाप्ति हुई थी। चुनाव के इस दौर में इनके खास मायने हैं।

22 मार्च 2019

विज्ञापन

बीजेपी की दूसरी लिस्ट में संबित पात्रा का नाम शामिल सहित दिनभर की 5 बड़ी खबरें

अमर उजाला डॉट कॉम पर देश-दुनिया की राजनीति, खेल, क्राइम, सिनेमा, फैशन और धर्म से जुड़ी खबरें। देखिए LIVE BULLETIN - शाम 5 बजे।

23 मार्च 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree