विज्ञापन

अद्वैत की धारणा से आदर मिलता है

Yashwant Vyas Updated Thu, 21 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
आध्यात्मिक विभूति तथा क्रांतिकारी चिंतक साने गुरुजी से एक जिज्ञासु ने पूछा, भारतीय धर्मशास्त्र के किस सूत्र ने भारत को दुनिया भर में आदर दिलाया, जगद्गुरु के रूप में प्रसिद्धि दिखाई। उन्होंने उत्तर दिया, अद्वैत की धारणा ने। अद्वैत का अर्थ है कि मेरे जैसा ही दूसरा भी है। मैं जिन बातों से सुख की अनुभूति करता हूं, वैसा ही दूसरों के साथ करता रहूं। जिन बातों से मुझे कष्ट पहुंचता है, वैसा व्यवहार दूसरों के साथ कदापि न करूं।
विज्ञापन
साने गुरुजी लिखते हैं, परायापन की भावना ही दुख का मूल कारण है। 'मेरा', 'तेरा' जैसी भेदमूलक भावना ही अनेक दुखों का कारण है। अद्वैत के समभाव के सिद्धांत को अपनाए बिना हम 'मेरा-तेरा' की विषमता की भावना से मुक्ति नहीं पा सकते। अद्वैत के महान संदेश से हमें प्रेरणा मिलती है कि प्राणी मात्र में एक ही जैसी आत्मा है, परमात्मा का निवास है। फिर भला अपना-पराया की भेदपरक भावना क्यों रखी जाए?

ऋषि केवल अद्वैत की कल्पना में ही नहीं रहे, वे सारे चराचरों से एकरूप हो गए, ऐसे प्रत्यक्ष उद्धरण धर्मशास्त्रों में हैं। रुद्रसूक्त लिखने वाला ऋषि मानव के शरीर, मन और बुद्धि की आवश्यकता की अनुभूति कर प्रार्थना करता है, भगवन, प्रत्येक को अन्न, भोजन, वस्त्र, विवेक, बुद्धि मिलती रहे। किसी भी अभाव के कारण वह न दुखी हो, न किसी पर निर्भर रहे। यही अद्वैत का व्यावहारिक लक्षण है। अतः कामना भी की गई है- सर्वे भवंतु सुखिनः। सर्वे संतु निरामयाः।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Opinion

सोशल मीडिया में स्त्री

बांग्लादेश में मेरे जितने आलोचक थे, सोशल मीडिया पर उससे कई गुना अधिक आलोचक हैं। सोशल मीडिया में महिलाओं के साथ जैसा व्यवहार किया जाता है, उसे गंभीरता से लेने की जरूरत है।

20 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

एशिया कप में भिड़ेंगे भारत और बांग्लादेश, इन खिलाड़ियों पर रहेगी नजर

गुरुवार को अफगानिस्तान ने बांग्लादेश की टीम को 136 रन से मात दे दी। शुक्रवार को सुपर – 4 के मुकाबले में भारत का मुकाबला बांग्लादेश से होगा। हालांकि मैच में भारत का पलड़ा भारी, लेकिन बांग्लादेश से चौकन्ना रहना भारत के लिए बेहद जरूरी है।

21 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree