विज्ञापन

तृष्णा को वश में रखना जरूरी

Yashwant Vyas Updated Mon, 18 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
एक बार आद्य शंकराचार्य से एक भक्त ने पूछा, किसका जीवन धन्य है और कौन दुखी है। आचार्य उत्तर देते हैं, दुखी सदा को विषयानुरागी। धन्योऽस्तु को यस्यु परोपकारी। अर्थात, जो संसार के भोग में आसक्त है, वह सदा दुखी रहता है, और जो परोपकार में लगा है, उसका जीवन धन्य है।
विज्ञापन
श्री शंकराचार्य उपदेश में कहते हैं, धन, यौवन और आयु विद्युत की भांति चंचल होते हैं। विद्युच्चलं किं धनयौवनायः। मानव को इनका बड़ी सतर्कता से सत्कर्मों में उपयोग करना चाहिए। सत्कर्म ही पाप राशि को धो डालने के साधन हैं। देह सुख को क्षणिक मानकर आत्मज्ञान की प्राप्ति के लिए सतत प्रयासशील रहने में ही कल्याण है।

आचार्य कहते हैं, संसार में तीन चीजें अत्यंत दुर्लभ हैं- मनुष्य योनी में जन्म होना, संसार बंधन से मुक्त होने की इच्छा करना और महान आदर्श अथवा शीलवान पुरुषों का संग होना। आत्म संयम व इंद्रिय संयम को प्राथमिकता देते हुए सांसारिक सुखों के भ्रम से मुक्त रहने का हमेशा अभ्यास करना चाहिए। हमें अच्छी प्रकार जान लेना चाहिए कि सांसारिक सुख-दुख भ्रम मात्र हैं। तृष्णा, अर्थात इच्छाएं ही हमारे सुख-दुख का कारण बनती हैं। जिसकी आवश्यकताएं सीमित हैं अथवा जो इच्छाएं नहीं पालता, उसे न सुख की कामना होती है और न ही कभी अभाव का दुख होता है। आचार्य कहते हैं, जो तृष्णा को वश में नहीं कर सकता, वह दुखी व अपमानित होता है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Opinion

बात निकली है तो दूर तलक जाएगी

विजय माल्या अकेले व्यक्ति नहीं हैं, जिनके भागने पर ऐसी बहसें हो रही हैं। व्यवस्था में अनेक त्रुटियां हैं। राजनीतिक बयानबाजी और तू-तू-मैं-मैं ने उत्तरदायित्व की भावना को पटरी से उतार दिया है।

18 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

19 सितंबर NEWS UPDATES : एशिया कप में भारत-पाकिस्तान के बीच महामुकाबला समेत देखिए सारी खबरें

एशिया कप में टीम इंडिया के धुरंधर पाकिस्तान के खिलाफ विस्फोट करने को तैयार, तीन तलाक पर अध्यादेश को कैबिनेट की बैठक में मिली मंजूरी समेत देखिए देश-दुनिया की सारी खबरें अमर उजाला टीवी पर।  

19 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree