विज्ञापन

अहंकार साधना में बाधक है

Yashwant Vyas Updated Thu, 31 May 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
जाफर सादिक अरब के परम तपस्वी संत थे। वह जगह-जगह जाकर लोगों को तमाम दुर्गुणों का त्याग कर शील-सदाचार का जीवन बिताने की प्रेरणा दिया करते थे। वह कहा करते थे कि इंद्रियों को संयम में रखने वाला ही सच्चा साधक होता है।
विज्ञापन
विज्ञापन
एक व्यक्ति संत सादिक के सत्संग के लिए पहुंचा। उसने कहा, जाने-अनजाने मुझसे पाप कर्म हो ही जाता है। इससे बचने का क्या उपाय है? संत ने जवाब दिया, यदि कुसंगी से बचे रहोगे, तो पाप कर्म होगा ही नहीं। चार प्रकार के मनुष्यों से साधक को हमेशा बचे रहना चाहिए। चार प्रकार के वे मनुष्य हैं- मिथ्याभाषी, मूर्ख, कृपण और नीच प्रवृत्ति का व्यक्ति। मिथ्याभाषी ठगकर पथभ्रष्ट कर सकता है, जबकि मूर्ख हमेशा अहित ही करता है। इसी तरह कृपण अपने स्वार्थ के लिए साधक को गलत कार्य करने के लिए बाध्य कर सकता है, जबकि नीच प्रवृत्ति वाला व्यक्ति भी पाप कर्म की ओर अग्रसर कर सकता है। इसलिए ऐसे व्यक्तियों से बचकर ही रहना चाहिए।

संत सादिक हमेशा उपदेश में कहा करते थे, जिस पाप के आरंभ में ईश्वर का भय और अंत में ईश्वर से क्षमा याचना होती है, वह पाप भी साधक को ईश्वर के समीप ले जाता है। किंतु जिस तपश्चर्या के आरंभ में अहं भाव और अंत में अभिमान होता है, वह तप भी तपस्वी को ईश्वर से दूर ले जाता है। अहंकारी साधक को सही अर्थों में साधक नहीं कहा जा सकता। प्रभु की प्रार्थना करने वाला पापी भी 'साधक' है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Opinion

उन्हें ‘सभ्य’ बनाने का स्वार्थ

सेंटिनल द्वीप में एक अमेरिकी मिशनरी के मारे जाने पर आदिवासियों को सभ्य बनाने की बहस जोरों पर है। एक पुलिस अधिकारी के तौर पर मैंने पाया कि आदिवासियों को सभ्य बनाने की कोशिश के पीछे लोगों का अपना स्वार्थ है।

13 दिसंबर 2018

विज्ञापन

Special women: वो महिला जिसने देश के लिए खुद के जिस्म को भी कर दिया दूसरे के नाम

सहमत वो नाम जो देश की खातिर पति की हत्या तक को सहमत हो गई.1971 के भारत पाकिस्तान युद्ध के दौरान सहमत ने पाकिस्तान में जाकर कई ऐसे राज पता किए जिसने पाकिस्तान को हिल कर रख दिया.

13 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree