विज्ञापन
विज्ञापन

पुरुषार्थ कभी मत छोड़ना

Yashwant Vyas Updated Tue, 01 May 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
त्रिपुर रहस्य के ज्ञानकांड में कहा गया है, श्रद्धया पौरुषपरो न विहन्यते सर्वथा। दृढं पौरुषमाश्रित्य स प्राप्येत यथाफलम्। यानी, श्रद्धा व निष्ठापूर्वक पुरुषार्थ करने में तत्पर पुरुष का कार्य कभी भी सिद्ध हुए बिना नहीं रहता।
विज्ञापन
विज्ञापन
एक बार महर्षि वशिष्ठ ने ब्रह्मा जी से पूछा, भगवन्, दैव और पुरुषार्थ में किसकी श्रेष्ठता है? ब्रह्मा जी ने बताया, महर्षि, बिना बीज के न तो कोई वस्तु उत्पन्न हो सकती है, और न ही कोई फल मिल सकता है। किसान खेत में जैसा बीज बोता है, उसी के अनुसार उसको फल मिलता है। इसी प्रकार मनुष्य पुण्य या पाप जैसा कर्म करता है, उसी के अनुसार फल भोगता है।

ब्रह्मा जी कहते हैं, किसान को अच्छे से अच्छा बीज उपलब्ध होने पर भी उसे बोने की प्रक्रिया में पुरुषार्थ तो करना ही पड़ता है। पुरुषार्थी मनुष्य का सर्वत्र सम्मान होता है, परंतु आलसी और निकम्मे मनुष्य की कहीं प्रतिष्ठा नहीं होती। कर्म करने से संसार में सब कुछ मिल सकता है। केवल भाग्य के भरोसे बैठे रहने से कुछ नहीं मिल सकता।

ब्रह्मा जी आगे कहते हैं, कृतः पुरुषकारस्तु दैवभेवानुवर्तते, अर्थात पुरुषार्थ करने वाले का साथ देवता भी देते हैं। ईश्वर या देवता सिद्धि के लिए जो तप करते हैं, वह भी एक कर्म या पुरुषार्थ ही है। किंतु दैव को तुच्छ समझना भी ठीक नहीं है, क्योंकि उन्हीं के प्रभाव से मनुष्य सत्कर्म की ओर प्रवृत्त होता है।

Recommended

UP Board Results देखने के लिए आज ही 8929470909 नंबर पर मिस्ड कॉल करें और फोन पर पाएं परिणाम
UP Board 2019

UP Board Results देखने के लिए आज ही 8929470909 नंबर पर मिस्ड कॉल करें और फोन पर पाएं परिणाम

कब और कैसे मिलेगी सरकारी नौकरी ?
ज्योतिष समाधान

कब और कैसे मिलेगी सरकारी नौकरी ?

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

अमेरिका साथ दिखा तो चीन पड़ा नरम, सहयोग कर सामूहिक समृद्धि की जताई इच्छा

जैश-ए-मोहम्मद के संस्थापक मसूद अजहर पर कुछ बदले रुख का संकेत देने के साथ ही बेल्ट ऐंड रोड पर भारत की शंकाएं दूर करने की कोशिश चीन के कूटनीतिक लचीलेपन की एक रेखा है।

24 अप्रैल 2019

विज्ञापन

विश्वकप से पहले इस बांग्लादेशी क्रिकेटर की तूफानी बल्लेबाजी से घबरा गईं बाकी टीमें

बांग्लादेश के एक क्रिकेटर ने अपनी तूफानी बल्लेबाजी से इतिहास रच डाला। दरअसल इस खिलाड़ी ने ढाका प्रीमियर लीग में हाल ही में खेले गए एक मैच में नाबाद 208 रन की पारी खेलते हुए एक बड़ी उपलब्धि अपने नाम कर ली।

25 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election