विज्ञापन
विज्ञापन

कॉरपोरेट सेक्टर इतना 'विशिष्ट' क्यों

Mrinal Pandey Updated Wed, 29 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
बड़ी कंपनियों के, चाहे वे सार्वजनिक क्षेत्र की हों या निजी क्षेत्र की, निदेशक मंडलों में अनुसूचित तबके की गैरमौजूदगी का सवाल पिछले दिनों सुर्खियां बना। एक तरफ संसदीय समिति ने एयर इंडिया की सामाजिक संरचना को लेकर सवाल उठाए और उसी के आसपास देश के कॉरपोरेट बोर्डों की जाति विविधता जांचने के लिए किए गए अध्ययन के नतीजे भी सामने आए।
विज्ञापन
विज्ञापन
खबर आई कि संसदीय समिति ने एयर इंडिया में अनुसूचित जाति एवं जनजाति के कम प्रतिनिधित्व को लेकर सरकार की आलोचना की और इस बात की हिमायत की कि न केवल उच्च श्रेणी के अधिकारियों के पदों पर अनुसूचित तबकों की नियुक्ति एवं उनके लिए आरक्षण मिलना चाहिए, बल्कि सरकार को यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि कंपनी के निदेशक बोर्ड में अनुसूचित जाति/जनजाति के सदस्य को स्वतंत्र निदेशक के तौर पर स्थान मिले।

इसे संयोग कहा जा सकता है कि इस रिपोर्ट का जिन दिनों प्रकाशन हुआ, उन्हीं दिनों कनाडा की नार्थ कोलंबिया यूनिवर्सिटी के विद्वतजनों डी अजित, हान दोनकर एवं रवि सक्सेना की टीम की भारत के कॉरपोरेट बोर्डों की समाजशास्त्रीय विवेचना सामने आई। उन्होंने भारत की अग्रणी एक हजार कंपनियों के कॉरपोरेट बोर्ड का अध्ययन किया। उनके मुताबिक, कॉरपोरेट बोर्ड आज भी 'ओल्ड बॉयज क्लब' बने हुए हैं, जो जातिगत जुड़ाव पर आधारित हैं, न कि प्रतिभा या अनुभव जैसे पैमानों पर।
जिन एक हजार कंपनियों का उन्होंने अध्ययन किया, उसमें निदेशक बोर्ड की औसत सदस्य संख्या नौ थी, जिनमें से 88 फीसदी इनसाइडर थे, अर्थात कंपनी से ही संबंधित लोग थे और सिर्फ 12 फीसदी स्वतंत्र निदेशक थे।

जातिगत आधार पर देखें, तो इनमें से 93 फीसदी उच्च जातियों से जुडे़ थे, तो अन्य पिछड़ी जातियों और अनुसूचित जाति और जनजाति से क्रमशः 3.8 और 3.5 फीसदी लोग थे। इकोनोमिक ऐंड पॉलिटिकल वीकली जैसी प्रतिष्ठित पत्रिका में प्रकाशित इस अध्ययन के अंश में लेखकों ने सवाल उठाया, ‘इस बात पर सहसा यकीन नहीं किया जा सकता कि अनुसूचित तबके का कम प्रतिनिधित्व प्रतिभा की कमी के चलते है। दरअसल यहां हम जाति को नेटवर्किंग के अहम कारक के तौर पर देख सकते हैं। कॉरपोरेट भारत की छोटी दुनिया में जातिगत रिश्तों के ताने-बाने में ही अंतर्क्रिया चलती रहती है।’

इस सर्वेक्षण को भारतीय उद्योगपतियों के सबसे बड़े संगठन कहे जानेवाले कॉन्फेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्रीज (सीआईआई) ने पिछले साल अंजाम दिया था। सर्वेक्षण में कुछ विचलित करनेवाले तथ्य सामने आए। मसलन, भारत के सबसे औद्योगीकृत कहे जानेवाले राज्यों में निजी क्षेत्र में अनुसूचित जाति एवं जनजातियों का अनुपात, राज्य की आबादी में उनके अनुपात को कहीं से भी प्रतिबिंबित नहीं करता।

उदाहरण के लिए, वर्ष 2008-2009 के वार्षिक उद्योग सर्वेक्षण में औद्योगिकीकरण एवं रोजगार के मामले में महाराष्ट्र दूसरे नंबर पर है, जबकि वहां इन तबकों का रोजगार में अनुपात महज पांच फीसदी है। आबादी में अनुपात एवं रोजगार में उनकी संख्या का बेमेल रिश्ता हम कर्नाटक, मध्य प्रदेश, राजस्थान, पश्चिम बंगाल आदि राज्यों में भी देख सकते हैं। गौरतलब है कि अकेले तमिलनाडु में इन वंचित तबकों का निजी क्षेत्र में अनुपात आबादी में उनके हिस्से के लगभग समानुपातिक है। जैसे इनकी आबादी का प्रतिशत 20 फीसदी है, जबकि उद्योगों में उनकी उपस्थिति का प्रतिशत 17.9 फीसदी है। दक्षिण के अन्य राज्यों में भी इसी किस्म की स्थिति है।

हम सभी जानते हैं कि आरक्षण की किसी भी योजना का या अमेरिका में कायम अफर्मेटिव ऐक्शन के किसी भी कार्यक्रम का बुनियादी तर्क क्या होता है। इसके मुताबिक जाति/जेंडर/नस्ल जैसी जन्मगत श्रेणियों के आधार पर बंटे समाज में अगर सभ्यतात्मक कारणों से पीछे छूटे समुदायों को समान अवसर हासिल करने की स्थिति में लाना है, तो उनके लिए सकारात्मक विभेद की नीतियां लागू करनी ही होंगी। यह लोकतंत्र का तकाजा है कि हुकूमत में बैठे लोग ऐसे उत्पीड़ित तबकों के लिए खास योजना बनाएं।

Recommended

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।
UP Board 2019

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019
ज्योतिष समाधान

अक्षय तृतीया पर अपार धन-संपदा की प्राप्ति हेतु सामूहिक श्री लक्ष्मी कुबेर यज्ञ - 07 मई 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

लोकसभा चुनाव 2019: वोट बैंक बचाने की लड़ाई

सेक्यूलर राजनेताओं ने मुसलमानों को मंदिर-मस्जिद और धर्म-मजहब के झगड़ों में इतना उलझा कर रखा है कि वे खुद अपनी असली समस्याएं भूल से गए हैं। ऐसे दलों ने चुनावों में मुसलमानों का वोट बटोरने का दशकों से लाभ उठाया है।

22 अप्रैल 2019

विज्ञापन

दिग्विजय सिंह ने मंच से पूछा किसको मिले 15 लाख, लड़के ने दिया ये जवाब

कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में दिग्विजय सिंह पूछते हैं हैं कि किस-किसको 15 लाख रुपये मिले हैं, जिसका जवाब देने के लिए एक युवा मंच पर आता है। देखिए क्या जवाब देता है लड़का।

22 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election