विज्ञापन

जय हो मोबाइल की

Vinit Narain Updated Thu, 23 Aug 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
एक समय राजधानी की बसों में सफर रोते-पीटते, एक दूसरे को कोसते हुए या लड़ते-झगड़ते कटता था। अब तो लंबा सफर भी कब बीत जाता है, पता नहीं चलता। इसके दो कारण हैं। एक तो दिल्ली की सड़कों से ब्लू लाइन बसों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है और उनकी जगह हरी, लाल और संतरे रंगों वाली बसों ने ले ली है, जिनकी सीट पर बैठने पर यह डर नहीं सताता कि कब ओवरटेक करते हुए ड्राइवर हमारा टाइम ओवर कर देगा। दूसरे, अब सबके पास मोबाइल फोन है।
विज्ञापन
अगर आप बस से रोजाना सफर करते हैं, तो देखा होगा कि सुबह दफ्तर जाते समय बसों में अलग सीन रहता है, तो आते समय कुछ और। महिलाओं के लिए सुबह ऑफिस जाने का वक्त अकसर अपने मायके वालों से बात करने का रहता है। चूंकि बच्चे स्कूल में होते हैं और पति पहले ही दफ्तर निकल लिए होते हैं, ऐसे में महिलाएं मायके में सभी रिश्तेदारों की खैर-खबर लेने के बाद या तो अपनी नई खरीदारी के बारे में बात करेंगी या सास-ननद के गिले-शिकवे ले बैठेंगी।

मायके वालों से बात कर मन की भड़ास निकल जाएगी और मन भी हलका हो जाएगा। शाम को लौटते समय यही महिलाएं बार-बार घर पर फोन कर पूछती रहेंगी, बेटा, पढ़ रहे हो या नहीं? मुझे टीवी की आवाज सुनाई दे रही है, उसे तुरंत बंद कर पढ़ने बैठ जाओ। मां तो मोबाइल पर बात कर तसल्ली कर लेती हैं, पर बच्चों के लिए सेलफोन किसी आफत से कम नहीं, जो उन्हें चैन से टीवी भी नहीं देखने देता।

बस में जवान लड़के-लड़कियों की तो दुनिया ही कुछ और है। भले ही कितनी भी भीड़ हो, उन पर किसी चीज़ का असर ही नहीं पड़ता। उनकी प्यार भरी गुटरगूं बिना किसी विघ्न के जारी रहेगी। और आवाज तो इतनी धीमी होगी कि आप उनसे सट जाने के बाद भी एक शब्द तक नहीं सुन सकते। अगर वे किसी से बात नहीं कर रहे, तो मोबाइल पर संगीत में मस्त रहेंगे।

एक रिटायर्ड बुजुर्ग का कहना था, भला हो दिल्ली सरकार का, जिसने हम लोगों के लिए डेढ़ सौ रुपये में महीने भर का पास बनवा दिया है। हम बस में मजे से बैठकर मोबाइल कल्चर का आनंद उठाते हैं, वरना घर में तो हमारी औकात शेल्फ पर धूल भरे उस पुराने डेकोरेशन पीस की तरह हो गई है, जिसे न फेंकते बनता है, न रखते। जय हो मोबाइल की। तेज रफ्तार जिंदगी में तेरा ही सहारा है।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Opinion

इन दिशा-निर्देशों से क्या बदलेगा

अदालत का अपने पुराने आदेश को दोहरानेे से कोई फायदा नहीं है, क्योंकि पिछले सोलह वर्षों से इस दिशा-निर्देश के बावजूद आपराधिक छवि के लोगों का राजनीति में प्रवेश जारी है।

14 अक्टूबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

#MeToo: सैफ अली खान का भी हुआ उत्पीड़न, किया 25 साल पुराने मामले का खुलासा

 #MeToo कैंपेन के तहत अब सैफ अली खान ने आपबीती सुनाई है। सैफ अली खान ने न सिर्फ इस कैंपेन का सपोर्ट किया है बल्कि 25 साल पहले अपने साथ हुए उत्पीड़न का भी खुलासा किया है। देखिए ये रिपोर्ट।

15 अक्टूबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree