विज्ञापन

लुप्तप्राय सैमर भाषा

Vinit Narain Updated Thu, 19 Jul 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
मैसूर स्थित केंद्रीय भारतीय भाषा संस्थान ने अपने 44वें स्थापना दिवस के अवसर पर एक सत्तर वर्षीय बुजुर्ग सुकुरथंग सैमर को सम्मानित किया है, जो सैमर नामक लुप्तप्राय जनजातीय भाषा का सबसे बुजुर्ग जानकार है। दुनिया भर में मात्र चार लोग सैमर भाषा बोलते हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
सैमर भाषी लोग त्रिपुरा के गंटाचेरा गांव के हालम जनजाति के 18 समूहों में एक सैमर समूह से संबद्ध हैं। त्रिपुरा में करीब 50 भाषाएं बोली जाती हैं, जिनमें से 18 हालम जनजाति की विभिन्न शाखाओं में बोली जाती हैं। हालम जनजाति की हर शाखा में अलग-अलग भाषाएं बोली जाती हैं। वर्ष 2009 में करीब 25 लोग ऐसे थे, जो सैमर भाषा बोलते थे, लेकिन अभी सुकुरथंग, उनकी पत्नी, उनका पोता और एक अन्य बुजुर्ग महिला ही इस भाषा को बोल पाती हैं। यह भाषा जानने वाले लोग रोजगार की तलाश में बाहर चले गए और अपनी भाषा भूल गए। इसके अलावा कहा जाता है कि इस समुदाय की हर पीढ़ी में मात्र एक बच्चा ही पैदा होता है और लड़कियां पैदा नहीं होतीं। इस कारण उनकी शादी दूसरे समुदाय में करनी पड़ती है और इस तरह अपनी भाषा छूटती जाती है।

सैमर जनजाति समूह की खोज भाषा मंदाकिनी नामक एक सर्वेक्षण के दौरान एक वर्ष पहले हुई है। काकबराक साहित्य सभा के अध्यक्ष नंदकुमार देव बर्मन, जो उस सर्वे से जुड़े थे, सुकुरथंग को उनके गांव से मैसूर लाए थे। इस भाषा को जानने वाले लोग कृषि मजदूर हैं। सैमर भाषा बोलना काफी कठिन है, क्योंकि इसके कुछ शब्द इतने जटिल हैं कि उसके उच्चारण में परेशानी होती है। केंद्रीय भारतीय भाषा संस्थान इन चारों सैमर भाषी लोगों से अनुवाद के जरिये सैमर भाषा के बारे में जानकारियां इकट्ठा करने का काम कर रहा है।

Recommended

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से
ज्योतिष समाधान

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पाएं हमारे अनुभवी ज्योतिषाचार्य से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

तेईस मार्च की विरासत

आज के दिन वर्ष 1931 में शहीद भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को फांसी दी गई थी। इसी दिन 1910 में देशज समाजवाद के प्रणेता राम मनोहर लोहिया का जन्म हुआ था। इसी दिन 1977 में इमरजेंसी की औपचारिक समाप्ति हुई थी। चुनाव के इस दौर में इनके खास मायने हैं।

22 मार्च 2019

विज्ञापन

भारत की जवाबी कार्रवाई से घबराकर पाकिस्तान ने उल्टा किया अपना झंडा, देखिए वीडियो

जम्मू-कश्मीर के अखनूर सेक्टर में शनिवार को भारत की जवाबी कार्रवाई से सीमा पार पाकिस्तानी चौकी तबाह। वीडियो में सामने आई पाकिस्तान की घबराहट

24 मार्च 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election