विज्ञापन

यूनान के संकटमोचक

Vinit Narain Updated Fri, 29 Jun 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
1970 के दशक में यूनान का प्रसिद्ध एथेंस कॉलेज अपने शैक्षणिक क्रियाकलापों के साथ ही एक अनूठे विरोध के लिए भी खूब प्रसिद्ध हुआ। वह विरोध तत्कालीन जुंटा की सैन्य सरकार के प्रतिबंधों के खिलाफ शुरू हुआ था, जिसमें दो छात्रों ने अपनी दाढ़ी बढ़ानी शुरू कर दी। उन दिनों को याद करते हुए एथेंस कॉलेज के ही पूर्व छात्र फिलिप सियारस कहते हैं कि उस वक्त उन दोनों को देखकर यह अंतर करना मुश्किल होता था कि वे मानव हैं, या फिर घने बालों वाले कोई शाही जानवर।
विज्ञापन
विज्ञापन
तब शायद ही लोगों ने यह सोचा होगा कि साथ-साथ विरोध करने वाले और एक ही छात्रावास में रहने वाले वे दोनों युवक आगे चलकर देश के मुखिया भी बनेंगे। उनमें से एक यूनान के पूर्व सोशलिस्ट प्रधानमंत्री जॉर्ज पापेंद्रू थे, जबकि दूसरे शख्स का नाम एनटोनिस समारस था, जिन्हें पिछले दिनों यूनान का प्रधानमंत्री घोषित किया गया है। न्यू डेमोक्रेटिक पार्टी के प्रमुख समारस को हालांकि पूर्ण बहुमत नहीं मिला सका, लेकिन सोशलिस्ट पार्टी पासोक और डेमोक्रेटिक लेफ्ट के साथ गठबंधन कर वह सरकार बनाने में कामयाब हुए हैं।

समारस की गिनती उदार अर्थशास्त्रियों में होती है। उन्हें ऐसे वक्त में देश की कमान मिली है, जब यूनान कर्ज संकट और दीवालिया होने के कगार पर है। चूंकि समारस कई सरकारों के कैबिनेट में भी रह चुके हैं और वामपंथी सीरीजा पार्टी की खर्चों में कमी करने की नीतियों की मुखालफत भी कर रहे हैं, इसलिए माना जा रहा है कि वह यूनान की अर्थव्यवस्था फिर पटरी पर ले आएंगे। यही वजह है कि उनकी ताजपोशी का यूरोपीय संघ सहित कई देशों ने स्वागत किया है।

समारस का राजनीतिक सफर महज 26 वर्ष की उम्र से ही शुरू हो गया, जब पहली बार वह संसद में पहुंचे। हालांकि सियासत में उन्हें 1990 के दशक में पहचान मिली, जब बतौर विदेश मंत्री एकल मुद्रा को बढ़ावा देने के लिए उन्होंने मास्त्रिक्ट समझौता किया, पर नए राज्य मैसेडोनिया के नाम और उसकी सीमा को लेकर वह पार्टी के खिलाफ हो गए। नतीजतन उन्हें पार्टी से बर्खास्त कर दिया गया। लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और नई पार्टी का गठन किया। हालांकि बाद में उन्होंने इसका विलय फिर से न्यू डेमोक्रेटिक पार्टी में कर दिया। आलोचकों की नजर में महत्वाकांक्षी अवसरवादी व्यक्ति माने जाने वाले समारस टेनिस के बेहतर खिलाड़ी भी रहे हैं और क्लब की पार्टियों में जाना उनका पसंदीदा शौक रहा है।

Recommended

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे
ADVERTORIAL

सर्दी में ज्यादा खाएं देसी घी, जानें क्यों कहते हैं इसे ब्रेन फूड और क्या-क्या हैं इसके फायदे

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

किसानों के लिए पैसा कहां से आएगा

कॉरपोरेट घरानों को भारी कर्जमाफी को लेकर आर्थिक व्यवहार्यता के बारे में कोई सवाल नहीं पूछा जाता है, जबकि कृषि ऋणों पर अनावश्यक गर्मी पैदा की जाती है।

16 जनवरी 2019

विज्ञापन

दिल्ली में पड़ोसी ने चाकू मारकर की महिला की हत्या सहित देशभर की 5 बड़ी खबरें

अमर उजाला टीवी पर देश-दुनिया की राजनीति, खेल, क्राइम, सिनेमा, फैशन और धर्म से जुड़ी खबरें। देखिए LIVE BULLETINS - शाम 5 बजे।

17 जनवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree