विज्ञापन

सोशल मीडिया की सुनामी में विज्ञापन

Vinit Narain Updated Sat, 09 Jun 2012 12:00 PM IST
advertising in Social media tsunami
ख़बर सुनें
आम तौर पर विज्ञापनों के पक्ष में काफी मजबूत तर्क दिए जाते हैं। जैसे इनके जरिये हमें सूचनाएं मिलती हैं। इनसे प्रतिस्पर्द्धा बढ़ती है। ये अलग-अलग ब्रांड को लेकर हमें जागरूक बनाते हैं। इससे उपभोक्ताओं को विभिन्न विकल्पों की जानकारी मिलती है। यह भी कहा जाता है कि विज्ञापन ब्रांड का निर्माण करते हैं, जिसके प्रति लोग आकर्षित होते हैं और इस तरह उपभोक्तावाद को बढ़ावा मिलता है, जो हमारी अर्थव्यवस्था के लिए बेहद जरूरी है।
विज्ञापन
विज्ञापन
वैसे आजकल विज्ञापनों के खिलाफ दिए जाने वाले तर्कों की भी कमी नहीं है, भले ही ये इतने प्रभावशाली न हों। मसलन, विज्ञापन गलत सूचनाएं देते हैं। ये उपभोक्ताओं के डर और असुरक्षा को लक्षित कर उत्पाद बेचने लायक संदेश प्रसारित करते हैं। इसके खिलाफ एक तर्क यह भी है कि विज्ञापन से दोषपूर्ण उपभोक्तावाद को बढ़ावा मिलता है, जो पर्यावरण और समाज के लिहाज से उपयुक्त नहीं है।

फिलहाल हकीकत इन दोनों तर्कों के बीच में कहीं मौजूद है। लेकिन यह भी सच है कि अब उपभोक्ताओं और समुदायों ने विज्ञापनदाताओं के इरादों पर संदेह करना शुरू कर दिया है। सच यह भी है कि दुनिया बहुत प्रतिस्पर्द्धात्मक हो चुकी है। कंपनियों के तिमाही नतीजे और शेयर बाजार में उनके लगातार मूल्यांकन जैसी स्थितियों के चलते किसी भी कीमत पर लाभ प्राप्त करने का दबाव बढ़ गया है। ऐसी स्थिति में उपभोक्ता और विज्ञापनदाता खतरनाक तरीके से अलग-अलग दिशाओं में बढ़ रहे हैं। लगातार ऐसा होने की स्थिति में इसका पूरा नुकसान विज्ञापनदाताओं को ही भुगतना पड़ेगा।

सोशल मीडिया इसका बड़ा कारण है। विज्ञापन आम तौर पर उपभोक्ता के दिमाग में गहरा असर डालता है और उसके अंदर किसी उत्पाद को खरीदने की इच्छा पैदा करता है। विज्ञापन कभी-कभार ही एक बड़े तबके तक पहुंच पाते हैं। ऐसा तभी होता है, जब वे सार्वजनिक सेवाओं से जुड़े हुए होते हैं।

मौजूदा हालात में इतना तो साफ हो चुका है कि विज्ञापन की दुनिया के पेशेवर अभी सोशल मीडिया से रूबरू हो चुके तबके को डील करने के मामले में प्रशिक्षित नहीं हैं। निश्चित रूप से ये पेशेवर उस रफ्तार को पकड़ पाने में कामयाब नहीं हो पा रहे हैं, जिस रफ्तार से सोशल मीडिया में लोग एक-दूसरे से जुड़ते हैं और अपनी जानकारियों की साझेदारी करते हैं। विज्ञापनदाताओं को एहसास होने से पहले ही सोशल मीडिया के जरिये कोई संदेश करोड़ों लोगों तक फैल जाता है और ये संदेश नकारात्मक भी हो सकते हैं।

सोशल मीडिया के जरिये एक तबके के तैयार होने के मामले को एप्पल ब्रांड के मामले से समझा जा सकता है। निश्चित रूप से यह शानदार उत्पाद है। मैं इसका प्रशंसक हूं। लेकिन इसने एक अनुगामी संस्कृति विकसित की, जिससे इस उत्पाद को बहुत फायदा मिला, और इस तरह यह दुनिया की सबसे कीमती कंपनी बन गई। जाहिर है कि एप्पल के संस्थापक स्टीव जॉब्स एक सांस्कृतिक प्रतीक बन गए, जिनकी तुलना केवल विली वोंका और उनकी चॉकलेट फैक्टरी से ही की जा सकती है।

हालांकि इस तरह की संस्कृति बदलाव को लेकर बहुत संवेदनशील होती है। मसलन, एप्पल ब्रांड को तैयार करने में श्रमिकों के शोषण जैसी खबरें आने पर कंपनी इस मामले को आनन-फानन में हल करने में जुट गई। सोशल मीडिया अगर पहले सक्रिय होता, तो एक नामचीन बहुराष्ट्रीय कंपनी एशिया में यह कहते हुए अपने उत्पाद बेचने में सफल नहीं हो पाती कि पाउडर मिल्क मां के दूध से बेहतर होता है। जाहिर है, उसने तब सोशल मीडिया की गैरमौजूदगी का फायदा उठाया। सोशल मीडिया के जरिये प्रसारित होने वाले विचारों की लहर सुनामी के रूप में तबदील हो सकती है। यह सुनामी उस विज्ञापन को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचा सकती है, जिसे एक समुदाय की पूर्ण क्षमता और सोशल मीडिया में इसकी ताकत का एहसास नहीं है।

Recommended

कुंभ मेले में अतुल धन, वैभव, समृधि प्राप्ति हेतु विशेष पूजा करवायें मात्र ₹1100 में
त्रिवेणी संगम पूजा

कुंभ मेले में अतुल धन, वैभव, समृधि प्राप्ति हेतु विशेष पूजा करवायें मात्र ₹1100 में

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

सैन्य अदालतों की जरूरत क्या है

पेशावर हमले के बाद नवाज शरीफ सरकार ने आतंकियों के खिलाफ सैन्य अदालतों के गठन को मंजूरी दी थी, जिसकी अवधि इस साल खत्म हो गई है। लेकिन इमरान सरकार इसका समय बढ़ाना चाहती है।

17 जनवरी 2019

विज्ञापन

बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का बड़ा बयान सहित दिनभर की बड़ी बात

आंतकियों की तलाश में यूपी में एनआईए की छापेमारी, दिल्ली में मर्डर का वीडियो हुआ वायरल और सोशल मीडिया के जरिए छाए दीपक कलाल की पिटाई का वीडियो आया सामने सहित दिनभर की खबरों की बड़ी बात। 

17 जनवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree