विज्ञापन

स्टीलवेल रोड

Vinit Narain Updated Thu, 07 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
देश के पूर्वोत्तर राज्य असम के लीडो नामक एक गुमनाम से खदान कसबे से शुरू होने वाली स्टीलवेल नामक एक ऐसी ऐतिहासिक सड़क है,जो भारत, म्यांमार और चीन को जोड़ती है। लगभग छह दशकों से बंद पड़ी इस सड़क के एक बार फिर से खुलने की चर्चा इन दिनों जोरों पर है। द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान बनी 1,726 किलोमीटर लंबी इस सड़क का विस्तार अपने देश में अरुणाचल प्रदेश तक (61 किलोमीटर) ही है, जबकि आगे इस सड़क का 1,033 किलोमीटर लंबा हिस्सा म्यांमार में है और बाकी 632 किलोमीटर चीन में।
विज्ञापन
म्यांमार और चीन को द्वितीय विश्वयुद्ध में जापान के चंगुल से बचाने वाली स्टीलवेल रोड के निर्माण की कहानी भी कम दिलचस्प नहीं है। उस वक्त पश्चिमी देशों के गठजोड़ के अभियान का निशाना जापान था, जिसे म्यांमार और चीन से बाहर करना था। अमेरिका के जनरल जोसेफ वारेन स्टीलवेल को जब दक्षिण एशिया के अमेरिकी अभियान के तहत चीन-म्यांमार-भारतीय मोरचे के कमांडर के तौर पर नियुक्त किया गया, तभी वर्ष 1942 में एक दिसंबर को इस सड़क को बनाने का फैसला लिया गया।

15 हजार अमेरिकी सैनिकों के अलावा 35 हजार स्थानीय श्रमिकों ने दिन-रात काम करके 15 करोड़ अमेरिकी डॉलर की लागत वाली इस सड़क को तैयार किया था। इसके निर्माण के दौरान करीब 1,100 अमेरिकी सैनिकों की मौत हो गई थी, हालांकि मरने वाले लोगों के बारे में कोई पुख्ता सुबूत नहीं हैं। इस सड़क के खुलने से तीनों देशों के बीच व्यापार तो बढ़ेगा ही, आपसी रिश्तों में भी मजबूती आएगी। स्थानीय लोग एक लंबे अरसे से इस सड़क को खोलने की मांग कर रहे हैं।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Opinion

बाल दिवस और बच्चे

पंडित नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है। पर पंडित जी ने अगर वास्तव में बच्चों में निवेश किया होता, तो वे आज इतने बेहाल न होते। आज भी देश का हर दूसरा बच्चा कुपोषित माना जाता है।

18 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

सत्ता का सेमीफाइनल : क्या कहती है हरदा की जनता?

सत्ता के सेमीफाइनल में अमर उजाला डॉट कॉम की टीम पहुंची हरदा। जहां जनता ने गिनवाई अपनी परेशानी और जनप्रतिनिधियों ने दिए उनके जवाब।

18 नवंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree