देश विभाजन: मौलवीजी को अचानक ख्याल आया भगवान तो सभी का एक है

करतार सिंह दुग्गल Updated Sun, 04 Feb 2018 05:55 PM IST
Katar Singh Duggal
Katar Singh Duggal
ख़बर सुनें
बलौच सिपाही मिल्टरी के ट्रक में मुर्गों की तरह लद गए थे। उनका सामान वैपन-कैरियर में सुबह भेज दिया गया था। हर फौजी के पास सिर्फ अपनी-अपनी बंदूक थी। समय ही कुछ ऐसा था कि बंदूकों पर संगीनें हर समय चढ़ी रहती थीं।
बलौच फौजियों की इस टुकड़ी का सरदार एक रमजान खान नाम का जमादार था, जिसे सभी 'मौलवी जी, मौलवी जी' कहते थे। चलती लारी में जमादार नमाज पढ़ने के लिए खड़े हो जाते। फसादों में लाशों के ढेर के आगे मुस्सला बिछाकर लोगों ने नमाज के समय उन्हें नमाज पढ़ते देखा था। एक सिपाही उनकी दाईं तरफ बंदूक लेकर खड़ा होता और एक सिपाही उनकी बाईं तरफ। देश विभाजन के बाद अमृतसर क्षेत्र से मुसलमानों को निकाल-निकालकर वे पाकिस्तान भेजते।

जली हुई मस्जिदों के सामने लारी रुकवाकर ये रोने लगते। कोई भी मुसलमान ऐसा नहीं रह गया था, जिसे मौलवी ने पाकिस्तान की स्वर्ग-सी जमीन पर न भिजवा दिया हो। जो अपने घरबार छोड़ने के लिए तैयार नहीं थे, उन्हें मौलवी जी इस्लामी राज्य के सुंदर चित्र दिखाते और कोई भी उनका कहना टाल न पाता। आज अब मौलवीजी को अचानक ख्याल आया भगवान, तो सभी का एक है।

अमृतसर के हरिमंदिर की नींव एक मुसलमान फकीर ने रखी थी, गुरु नानक को अहले-सुन्नत भी अपना पीर मानते हैं और मौलवी जी ने दूर गुरुद्वारे के चमकते हुए सुनहरे कलशों को देखकर सिर झुका दिया।
आगे पढ़ें

Recommended

Spotlight

Related Videos

VIDEO: राजकीय सम्मान के साथ बीजेपी मुख्यालय पहुंचा अटल जी का पार्थिव शरीर

पूरे राजकीय सम्मान के साथ पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के पार्थिव शरीर को उनके आवास से बीजेपी मुख्यालय पहुंचाया गया। इस बीत सड़क के दोनों तरफ उनके चाहने वालों का हुजूम लगा हुआ था। देखिए पूरा वीडियो

17 अगस्त 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree