विज्ञापन

सपने देखना बंद कर देने के कारण लोग बूढ़े होते हैं

गैब्रियल गार्सिया मार्खेज, उपन्यासकार एवं पत्रकार Updated Mon, 29 Jan 2018 02:56 PM IST
 do not stop dreaming in your life
विज्ञापन
ख़बर सुनें
मैं हमेशा इस बात को लेकर आश्वस्त रहा हूं कि मेरा असली पेशा पत्रकार का रहा है। लेकिन पत्रकारिता की कामकाजी परिस्थितियां मुझे कभी पसंद नही आईं। इसके अलावा मुझे अखबार के हितों के लिए अपने विचारों से समझौता करना पड़ा। अब चूंकि मैं एक उपन्यासकार के रूप में आर्थिक रूप से स्वतंत्र हो चुका हूं, मैं उन विषयों को चुन सकता हूं, जिनमें रुचि है और जो मेरे विचारों के अनुरूप है। फिर भी मैं हमेशा पत्रकारिता का एक बड़ा काम करने का आनंद उठाता हूं।
विज्ञापन
पत्रकारिता में एक गलत तथ्य आपके पूरे काम को नुकसान पहुंचा सकता है, जबकि उपन्यास या कथा-साहित्य में एक सही तथ्य आपके पूरे काम को वैधता प्रदान करता है। पत्रकारिता और साहित्य में यही मूल अंतर है और यह लेखक की प्रतिबद्धता पर निर्भर करता है। एक उपन्यासकार तब तक जो चाहे लिख सकता है, जब तक कि वह लोगों का विश्वास अपने ऊपर बनाए रखता है। किसी भी चीज को शानदार, विश्वसनीय और प्रशंसनीय बनाने की कला मैंने पत्रकारिता से सीखी है।

इसमें सबसे महत्वपूर्ण होता है अपनी बात को स्पष्ट रूप से कहना। लोग जीवन भर यह सोचते रहते हैं कि वास्तव में वे कैसे जीना चाहते हैं। मैंने अपने दोस्तों से भी पूछा, पर किसी के पास स्पष्ट उत्तर नहीं था। मगर मैं उन दिनों की तरह जीना चाहता हूं, जब मैंने लव इन द टाइम ऑफ कॉलेरा लिखा था। यह सही नहीं है कि लोग बूढ़े होने के कारण सपने देखना छोड़ देते हैं, बल्कि सच यह है कि सपने देखना बंद कर देने के कारण लोग बूढ़े होते हैं।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Literature

'सच्चे ज्ञान का आभास प्रकृति ही में मिल सकता है'

संसार में धर्म के नाम पर जो इतने भीषण युद्ध हुए हैं, वे सब अंधविश्वास के कारण। शुद्ध बुद्धि की कसौटी पर तो सारे प्रचलित मत समान रूप से असंगत, मिथ्या और कपोलकल्पित हैं।

8 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

आज का पंचांग: देखिए सप्तमी के दिन बन रहे हैं कौन से शुभ योग

मंगलवार को लग रहा है कौन सा नक्षत्र और बन रहा है कौन सा योग? दिन के किस पहर करें शुभ काम? जानिए यहां और देखिए पंचांग मंगलवार 16 अक्टूबर 2018।

15 अक्टूबर 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree