विज्ञापन
विज्ञापन

वन-डे और T-20 के बाद क्या अब खतरे में है आर अश्विन का टेस्ट करियर?

Shivendra Kumar Singhशिवेंद्र कुमार सिंह Updated Sat, 24 Aug 2019 01:22 PM IST
आर अश्विन और विराट कोहली
आर अश्विन और विराट कोहली - फोटो : सोशल मीडिया
ख़बर सुनें
एंटिगा टेस्ट के प्लेइंग 11 में आर अश्विन को जगह ना मिलना भारतीय क्रिकेट का इस वक्त का सबसे गर्मागर्म मुद्दा है। इस मुद्दे को गरमाने में पूर्व कप्तान और दिग्गज क्रिकेटर सुनील गावस्कर का रोल सबसे अहम है। टेस्ट मैच के पहले दिन जब प्लेइंग 11 का एलान हुआ तब वही कॉमेंट्री कर रहे थे। आर अश्विन को प्लेइंग 11 से बाहर रखने के फैसले को उन्होंने ‘एस्टॉनिशिंग’ यानी बेहद हैरान करने वाला बताया।
विज्ञापन
उन्होंने कहा कि जिस खिलाड़ी के वेस्टइंडीज के खिलाफ ऐसे बेहतरीन रिकॉर्ड्स हों उसका टीम में ना होना चौंकाने वाला है। इसके बाद मीडिया को ‘हेडलाइन’ मिल गई। हेडलाइन से इतर अब बड़ा सवाल ये है कि आर अश्विन का भारतीय क्रिकेट में भविष्य क्या है? आम तौर पर रवायत ये होती है कि अगर किसी सीनियर खिलाड़ी को टीम में जगह दी गई है तो उसे प्लेइंग 11 में भी मौका दिया जाता है।

रोहित शर्मा को इस कसौटी पर इसलिए नहीं परखा जाएगा क्योंकि टेस्ट क्रिकेट में अभी उन्हें खुद को साबित करना है। इस बात को आप ऐसे भी समझ सकते हैं कि अगर टीम इंडिया के ‘थिंकटैंक’ ने भारतीय स्पिन आक्रमण को आर अश्विन से आगे जाकर देखना शुरू कर दिया है तो उन्हें टीम में भी नहीं चुनना चाहिए था। क्योंकि उन्हें टीम में चुनकर प्लेइंग 11 से बाहर रखने का सीधा मतलब है कि वो अब टीम इंडिया के तीसरे स्पिनर हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

स्पिनर को जीतना होता है कप्तान का भरोसा

विज्ञापन

Recommended

13 सितम्बर से शुरू इस पितृ पक्ष कराएं गया में श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति
Astrology Services

13 सितम्बर से शुरू इस पितृ पक्ष कराएं गया में श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस: छलावे और सत्ता की मशीनरी के बीच दुनिया में लोकतंत्र की यात्रा

पूरी दुनियां में 15 सितंबर को लोकतंत्र दिवस मनाया जाता है।इस आयोजन का मूल उद्देश्य इस बेहतरीन जीवन और सुशासन पद्धति को दुनिया में अंतिम छोर तक स्थापित करने का आह्वान प्रमुख रहता है।

15 सितंबर 2019

विज्ञापन

दक्षिणी राजस्थान में बाढ़ के से हालात, चित्तौड़गढ़ के एक स्कूल में फंसे 350 छात्र और 50 शिक्षक

राजस्थान में चित्तौड़गढ़ के एक स्कूल में 350 से अधिक छात्र और 50 शिक्षक बाढ़ में फंस गए हैं। राणा प्रताप बांध से छूटे पानी के कारण सड़कों ने नहरों का सा रुप ले लिया है।

15 सितंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree