विज्ञापन
विज्ञापन

मुश्किल में इमरान, पैसे-पैसे को मोहताज गृहयुद्ध के मुहाने पर खड़ा पाकिस्तान 

Rajesh Badalराजेश बादल Updated Fri, 14 Jun 2019 07:30 PM IST
पाकिस्तान के आर्थिक हालात काबू से बाहर हैं।
पाकिस्तान के आर्थिक हालात काबू से बाहर हैं। - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान अब बेबस और असहाय नज़र आने लगे हैं। बजट के बाद देर रात अवाम के नाम संदेश में उन्होंने माना कि मुल्क़ की आर्थिक सेहत काबू से बाहर है। सारे उपाय एक के बाद एक दम तोड़ते जा रहे हैं। मुल्क़ कंगाली के उस मुहाने पर है,जहां सामने विकराल खाई है और पीछे लौटने के सारे रास्ते बंद हैं।
विज्ञापन
पाकिस्तान का क़र्ज़ 30 हज़ार अरब डॉलर तक पहुंच गया है। इसे आप देश के लिए आर्थिक आत्महत्या जैसी हालत मान सकते हैं, जिस देश में कुल बजट का क़रीब 54 फ़ीसदी केवल फ़ौज़ पर और क़र्ज़ चुकाने में जाता हो ,वह कैसे आगे बढ़ेगा? यह संसार भर के अर्थशास्त्रियों के लिए पहेली है।  

आखिर क्यों परेशान है  पड़ोसी मुल्क?  
भारत के इस पड़ोसी ने दशकों से हिन्दुस्तान में आतंक फैलाने के लिए फ़ौज़ और आईएसआई के मार्फ़त जितना पैसा बहाया है उतने में तो अनेक देश मालामाल हो जाते। अपने हाथों-पैरों पर कुल्हाड़ी मारने का यह विश्व में अनूठा उदाहरण होगा। मंगलवार को जब पाकिस्तान की संसद में बजट पेश हुआ तो जनता के लिए तय करना कठिन था कि उस पर हंसे या आंसू बहाए।

वैसे तो इमरान ख़ान नवाज़ शरीफ़ को पटखनी देने के लिए चुनाव प्रचार में एक ही राग अलापते रहे हैं कि अगर वे सत्ता में आए तो ख़ुदकुशी कर लेंगे, लेकिन किसी भी क़ीमत पर क़र्ज़ नहीं लेंगे। मगर हुआ उल्टा। अब वे क़र्ज़ की ख़ातिर दर-दर भटक रहे हैं और घी भी पीते जा रहे हैं। मिस्टर यू टर्न प्राइम मिनिस्टर से अब आत्महत्या की बात कौन पूछ सकता है? अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष सैद्धांतिक तौर पर पाकिस्तान को तेरहवीं बार 6 अरब डॉलर का ऋण देने के लिए राजी हो गया है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

बायोमेडिकल एवं लाइफ साइंस में लेना है एडमिशन, ये है सबसे नामी संस्था
Dolphin PG

बायोमेडिकल एवं लाइफ साइंस में लेना है एडमिशन, ये है सबसे नामी संस्था

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को
Astrology Services

सुखी वैवाहिक जीवन के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा, 24 अगस्त को

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

भाजपा में जाने की चर्चाओं को लेकर आखिर क्यों चुप हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया?

मप्र की सियासत में इस समय ज्योतिरादित्य सिंधिया चर्चा का केंद्रीय विषय बने हुए हैं क्योंकि उन्हें लेकर पिछले एक सप्ताह से सोशल मीडिया पर खबरें वायरल हो रही हैं

21 अगस्त 2019

विज्ञापन

केले के रेशे से बने इस पैड को 122 बार धोकर कर सकते हैं इस्तेमाल

आईआईटी दिल्ली के दो छात्रों ने केले के फाइबर से सेनेटरी पैड बनाने की तकनीक तैयार की है। इस पैड को 122 बार धोकर दो साल तक प्रयोग किया जा सकता है। बार-बार प्रयोग के बाद भी इससे किसी प्रकार के इंफेक्शन का खतरा नहीं है।

22 अगस्त 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree