विज्ञापन

क्या है एंटी ट्रैफिकिंग बिल जो मोदी सरकार कराने जा रही है पास

Anurag PunethaPunetha Punetha Updated Mon, 17 Dec 2018 02:38 PM IST
पिछले कुछ सालों में देश में बच्चों की ट्रैफिकिंग और गुमशुदगी बढ़ी है। आंकड़े इसकी भयावहता की तस्दीक कर रहे हैं।
पिछले कुछ सालों में देश में बच्चों की ट्रैफिकिंग और गुमशुदगी बढ़ी है। आंकड़े इसकी भयावहता की तस्दीक कर रहे हैं। - फोटो : File Photo
ख़बर सुनें
पिछले कुछ सालों में देश में बच्चों की ट्रैफिकिंग और गुमशुदगी बढ़ी है। आंकड़े इसकी भयावहता की तस्दीक कर रहे हैं। हर घंटे में दो व्यक्ति ट्रैफिकिंग का शिकार हो जाता है, इनमें से एक बच्चा होता है। जबकि हर घंटे 8 बच्चे गुमशुदुगी का शिकार हो जाते हैं। नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो की साल 2016 की रिपोर्ट बताती है कि एक साल में ट्रैफिकिंग के शिकार लोगों की संख्या में 69 फीसदी का इजाफा हो गया। 
विज्ञापन
गुम हुए ज्यादातर बच्चे भी ट्रैफिकिंग के ही शिकार होते हैं और वे भी बंधुआ मजदूरी, गुलामी, भिक्षावृत्ति, जबरिया शादी, वेश्यावृत्ति आदि के लिए खरीदे-बेचे जाते हैं। जो बच्चे ट्रैफिकिंग के शिकार होते हैं, गुलामी कराने के साथ-साथ उनका बलात्कार और यौन शोषण भी किया जाता है। झारखंड, बिहार, पश्चिम बंगाल, उडीसा और असम आदि राज्यों के अति पिछड़े और आदिवासी इलाके के लड़के-लड़कियों को प्लेसमेंट एंजसियों के दलालों द्वारा अच्छी नौकरी का झांसा दे ट्रैफिकिंग कर महानगरों में लाया जाता है और फिर उन्हें घरों में या फिर मसाज पार्लरों में काम करने के लिए बेच दिया जाता है। ये घरेलू नौकर एक तरह से गुलाम बन जाते हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

समस्त भौतिक सुखों की प्राप्ति हेतु शिवरात्रि पर ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर मंदिर में करवाएं विशेष शिव पूजा
ज्योतिष समाधान

समस्त भौतिक सुखों की प्राप्ति हेतु शिवरात्रि पर ज्योतिर्लिंग महाकालेश्वर मंदिर में करवाएं विशेष शिव पूजा

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

पाकिस्तान को लग सकता है बड़ा झटका, कुलभूषण जाधव को भारत लाने में सफल होगी मोदी सरकार?

kulbhushan jadhav case क्या भारत पूर्व इंडियन नेवी ऑफ़िसर कुलभूषण जाधव को सकुशल स्वदेश लाने में सफल हो सकेगा या इस भारतीय सपूत का हश्र सरबजीत सिंह की तरह ही होगा?

18 फरवरी 2019

विज्ञापन

रुला देगी शहीद मेजर विभूति और निकिता की अमर प्रेम कहानी

'आई लव यू। मिस यू विभूति। फिर मिलेंगे, ऐसी दुनिया में जहां आतंक का साया न हो।' अनंत की यात्रा पर जा रहे शहीद मेजर विभूति ढौंडियाल की पत्नी निकिता ताबूत में पति के चेहरे को एकटक निहारते हुए यही बुदबुदा रही थी।

20 फरवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree