विज्ञापन
विज्ञापन

भाजपा में जाने की चर्चाओं को लेकर आखिर क्यों चुप हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया?

Ajay Khemariyaअजय खेमरिया Updated Wed, 21 Aug 2019 07:33 PM IST
क्या वाकई भाजपा में शामिल हो सकते हैं सिंधिया?  
क्या वाकई भाजपा में शामिल हो सकते हैं सिंधिया?   - फोटो : PTI
ख़बर सुनें
मप्र की सियासत में इस समय ज्योतिरादित्य सिंधिया चर्चा का केंद्रीय विषय बने हुए हैं क्योंकि उन्हें लेकर पिछले एक सप्ताह से सोशल मीडिया पर खबरें वायरल हो रही हैं कि वे बीजेपी में जा रहे हैं और उनकी मुलाकात बीजेपी अध्यक्ष और गृहमंत्री अमित शाह से हो चुकी है।
विज्ञापन
खास बात यह है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया की तरफ से इस खबर का कोई खंडन नहीं किया जा रहा है जबकि सिंधिया सोशल मीडिया पर लगातार एक्टिव रहते हैं और उनकी पत्नी प्रियदर्शिनी राजे और येल यूनिवर्सिटी से पास पुत्र महाआर्यमन भी लगातार सोशल मीडिया पर लोगों से संवाद करते रहते हैं।

इधर सिंधिया भी फेसबुक पेज से अक्सर लाइव  आते रहते हैं। लेक़िन लगातार चल रही इन खबरों का प्रतिकार किसी फोरम से नहीं हो रहा है। यही नहीं उनके किसी समर्थक मंत्री द्वारा भी इन खबरों का खंडन नहीं किया जा रहा। इस बीच राजधानी भोपाल में भी इस आशय की खबरें छप रहीं हैं।

क्या वाकई भाजपा में शामिल हो सकते हैं सिंधिया?  
क्या वाकई ज्योतिरादित्य सिंधिया बीजेपी में जा सकते हैं? मप्र के मौजूदा राजनीतिक हालात बताते हैं कि 15 साल बाद सत्ता में आई कांग्रेस गुटबाजी औऱ कबीलाई कल्चर से बाहर नहीं आ पाई है और सिंधिया इस समय  खुद के सत्ता साकेत में हाशिए पर हैं। उनकी गुना से हुई पराजय ने व्यक्तिगत रूप से उन्हें कमजोर कर दिया है। 

कमलनाथ अभी मप्र कांग्रेस के अध्यक्ष भी हैं। सिंधिया समर्थक चाहते थे कि यह पद सिंधिया को मिले ताकि मप्र में सिंधिया का हस्तक्षेप बना रहे, लेकिन कमलनाथ इसके लिए राजी नहीं हैं क्योंकि वे सत्ता का कोई दूसरा केंद्र विकसित नहीं होने देना चाहते हैं।

इधर, लोकसभा में पार्टी की हार के बाद कमलनाथ ने इस पद से इस्तीफा दे दिया लेकिन अब वे इस पद पर आदिवासी कार्ड खेलकर सिंधिया को रोकने में लगे हैं और अपने खास समर्थक गृहमंत्री बाला बच्चन या ओमकार मरकाम को पीसीसी चीफ बनाना चाहते हैं। इस मिशन में उन्हें दिग्विजयसिंह का साथ है जो परम्परागत् रूप से सिंधिया राजघराने के विरोधी हैं। समझा जा सकता है कि मप्र की सत्ता से बाहर किए गए सिंधिया को संगठन में भी यहां आसानी से कोई जगह नहीं मिलने वाली है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

घर बैठे इस पितृ पक्ष गया में पूरे विधि-विधान एवं संकल्प के साथ कराएं श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति
Astrology Services

घर बैठे इस पितृ पक्ष गया में पूरे विधि-विधान एवं संकल्प के साथ कराएं श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

चुनाव से पहले पसोपेश में कांग्रेस

महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड के विधानसभा चुनावों में बेहतर प्रदर्शन करने का कांग्रेस के पास मौका है, लेकिन जमीनी हकीकत उसके लिए बहुत उत्साहजनक नहीं है।

16 सितंबर 2019

विज्ञापन

आखिर क्यों बनाए गए मिस्र के पिरामिड, जिंदा लोग भी हैं दफन

पिरामिड और ममी इससे जुड़ी कई कहानियां कई फिल्में आपने सुनी और देखी होंगी लेकिन क्या आपने कभी जानने की कोशिश की है कि आखिर मिस्र में कुछ लोगों को पिरामिड में ही दफनाया क्यों जाता था ?

16 सितंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree