विज्ञापन
विज्ञापन

हरियाणा चुनाव 2019ः कांग्रेस के लिए क्या कुछ कर पाएंगे हुड्डा और शैलजा

Sanjiv Pandeyसंजीव पांडेय Updated Tue, 17 Sep 2019 03:48 PM IST
हरियाणा में कई गुटों में बंटी कांग्रेस ने चुनाव से ठीक पहले नए अध्यक्ष और नए नेता प्रतिपक्ष की घोषणा की।
हरियाणा में कई गुटों में बंटी कांग्रेस ने चुनाव से ठीक पहले नए अध्यक्ष और नए नेता प्रतिपक्ष की घोषणा की। - फोटो : सोशल मीडिया
ख़बर सुनें
हरियाणा में चुनावी बिगुल किसी समय भी बज सकता है। थकी-हारी कांग्रेस भाजपा के नए प्रयोगों का मुकाबला अपने पुराने सेनापतियों के सहारे करने जा रही है। भाजपा से मुकाबले के लिए कांग्रेस ने पुराने जनरलों को मैदान में उतार दिया है। लोकसभा चुनावों में हार के बाद हताश कांग्रेस ने एक बाऱ फिर अपने क्षेत्रीय क्षत्रप भूपेंद्र सिंह हुड्डा के सामने घुटने टेक दिए हैं। 
विज्ञापन
हरियाणा में कई गुटों में बंटी कांग्रेस ने चुनाव से ठीक पहले नए अध्यक्ष और नए नेता प्रतिपक्ष की घोषणा की। पार्टी छोड़ने की धमकी दे रहे भूपेंद्र हुड्डा को नेता प्रतिपक्ष बना दिया। अशोक तंवर को अध्यक्ष पद से हटा कुमारी शैलजा को प्रदेश अध्यक्ष बना दिया।

प्रदेश कांग्रेस में दो बदलाव कर कांग्रेस ने साफ संदेश दिया कि कांग्रेस प्रदेश में सत्ता तो चाहती है, पर कांग्रेस के पास सत्ताधारी भाजपा से संघर्ष के लिए कोई नया उर्जावान नेता नहीं है।

कांग्रेस ने इस बदलाव के साथ यही एक ही संदेश दिया कि अगर प्रदेश की जनता भाजपा से नाराज है तो कांग्रेस को चुपचाप सत्ता सौंप दे। ठीक उसी तरह से जैसे मध्य प्रदेश, छतीसगढ़ और राजस्थान के राज्य विधानसभा चुनावों में जनता ने भाजपा से सत्ता छीन कांग्रेस को सत्ता की कुर्सी सौंप दी थी। इन राज्यों में कांग्रेस ने अपनी तरफ से कुछ नहीं किया था।

नाराज जनता ने खुदबखुद कांग्रेस को सत्ता की कुर्सी दे दी थी। जीत के बाद कांग्रेस ने अपने पुरानी परंपरा का पालन करते हुए मध्य प्रदेश और राजस्थान में सेवानिवृति के कगार पर आए दो नेताओं कमलनाथ और अशोक गहलौत को मार्गदर्शक मंडल में भेजने के बजाए मुख्यमंत्री की कुर्सी दे दी। दोनों ने लोकसभा चुनावों में जमकर गुल खिलाया, अपने बेटों को लोकसभा टिकट दिला व्यस्त हो गए, पूरे राज्य में भाजपा जीत गई।  

भूपेंद्र हुड्डा औऱ शैलजा को कमान
पूर्व मुख्यमंत्री भुपेंद्र सिंह हुड्डा को नेता प्रतिपक्ष बनाकर कांग्रेस ने संदेश दिया कि कांग्रेस के पास फिलहाल हरियाणा में हुड्डा का विकल्प नहीं है। हुड्डा के नेतृत्व में ही कांग्रेस हरियाणा में चुनाव लड़ेगी। हुड्डा की मांग थी कि अशोक तंवर को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाया जाए। लंबे समय तक हाईकमान उन्हें टालता रहा। लेकिन जब हुड्डा ने खुली बगावत की धमकी दी, पार्टी तोड़ने की बात की तो हाईकमान झुकता नजर आया। पिछले कुछ सालों मे लगातार कांग्रेस के क्षेत्रीय नेता पार्टी हाईकमान को दबाव में लेने में कामयाब रहे हैं।

हुड्डा ने भी कामयाबी हासिल कर ली। 2017 में पंजाब में हुए विधानसभा चुनावों से पहले भी अमरिंदर सिंह को हाईकमान ने उनके दबाव में चुनाव से पहले मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया था। उस समय अमरिंदर सिंह ने भी पार्टी छोड़ने के संकेत दे दिए थे। हालांकि पंजाब वाली स्थिति हरियाणा में नहीं है। भाजपा से उस हद की कोई नाराजगी हरियाणा में फिलहाल दिखाई नहीं दे रही जो 2017 के विधानसभा चुनावों से पहले पंजाब में अकाली दल भाजपा गठबंधन से लोगों की थी।

वहीं हरियाणा के सामाजिक तानाबाने में खासी छेड़छाड़ भाजपा ने कर दी है। गैर जाट को मुख्यमंत्री बना भाजपा ने पूरे हरियाणा में गैर जाटों को जाटों के खिलाफ लामबंद कर दिया। हरियाणा में लंबे समय तक जाट मुख्यमंत्री रहने के कारण गैर जाटों में असंतोष काफी लंबे समय से था।

कांग्रेस को यह पता है कि गैर जाटों में  अभी भी हरियाणा में जाटों के खिलाफ लामबंद है। यही कारण है कि कांग्रेस ने हुड्डा को पार्टी छोड़ने से मना तो लिया, लेकिन उन्हें अध्य़क्ष पद नहीं दिया। कांग्रेस अध्यक्ष पद पर एससी जाति से संबंधित अशोक तवंर को हटा एससी शैलजा को बिठाया ताकि गैर जाटों में एक भ्रम बना रहे कि कांग्रेस अगर आएगी तो गैर जाट ही मुख्यमंत्री बनेगा।  
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

आखिर भारतीयों को क्यो पसंद है रमी खेलना?
Junglee Rummy

आखिर भारतीयों को क्यो पसंद है रमी खेलना?

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Blog

प्रकृति ही देगी प्लास्टिक का हल, भारत में हर साल 1.4 करोड़ टन होता है यूज

अगर दुनिया भर के देशों द्वारा सिंगल यूज़ प्लास्टिक बैन के पैटर्न को देखें तो हमें यह पता चलता है कि हर देश ने एक बार में नहीं बल्कि विभिन्न चरणों में अपने इस लक्ष्य सिंगल यूज प्लास्टिक पर बैन लगाकर हासिल किया है। द

23 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल कप्तानों में से एक सौरव गांगुली आज बनेंगे बीसीसीआई के अध्यक्ष

भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल कप्तानों में से एक सौरव गांगुली बीसीसीई के 39वें अध्यक्ष बनेंगे। गांगुली का बीसीसीआई के अध्यक्ष पद के लिए नामांकन सर्वसम्मति से हुआ है।

23 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree