विज्ञापन
विज्ञापन

चिकित्सा शिक्षा में फैकल्टी की कमी पूरा कर सकते हैं डिप्लोमा डॉक्टर्स

Ajay Khemariyaअजय खेमरिया Updated Sun, 03 Nov 2019 11:45 AM IST
देश की चिकित्सा शिक्षा को लेकर कई ऐसे पहलू हैं जिन पर सरकारी स्तर पर सुधार की आवश्यकता है।
देश की चिकित्सा शिक्षा को लेकर कई ऐसे पहलू हैं जिन पर सरकारी स्तर पर सुधार की आवश्यकता है। - फोटो : pixabay
ख़बर सुनें
देश की चिकित्सा शिक्षा को लेकर कई ऐसे पहलू हैं जिन पर सरकारी स्तर पर सुधार की आवश्यकता है। दरअसल, नए सरकारी मेडिकल कॉलेज तो दनादन खोले जा रहे है लेकिन उनकी गुणवत्ता पर सरकार का कतई ध्यान नहीं है।सभी नए और पुराने कॉलेज फैकल्टीज की समस्या से पीड़ित हैं। एमसीआई ने जो मानक निर्धारित कर रखे है उनकी अनुपालना यदि बरकरार रखा जाए तो देश मे कभी भी फेकल्टी की समस्या का समाधान संभव नहीं है। मसलन पीजी डॉक्टर ही शिक्षकीय कार्य कर सकता है उसे पहले किसी कॉलेज में सीनियर रेजिडेंट के रूप में या फिर सहायक प्राध्यापक के रूप में अनुभव अनिवार्य है।
विज्ञापन
इस प्रावधान के चलते देश भर में चिकित्सा शिक्षकों का अकाल इसलिए है क्योंकि कोई भी क्लिनिकल प्रेक्टिस वाला डॉक्टर अपनी मोटी कमाई खुले बाजार में करने की जगह सरकारी सिस्टम में अफसरशाही से अपमानित होने के लिए नहीं आना चाहता है। दूसरी बड़ी विसंगति यह है कि देश भर के पीजी डिप्लोमा डॉक्टर्स को मेडिकल एजुकेशन सिस्टम से बाहर करके रखा गया है। पीजी के समानांतर ये डिप्लोमा भी दो साल में होता है।

अगर इन डिप्लोमाधारी डॉक्टर्स को फैकल्टी के रूप में अधिमान्य किया जाए तो इस शिक्षकीय टोटे से निबटा जा सकता है।देश मे इस समय लगभग 70 हजार पीजी डिप्लोमा डॉक्टर्स हैं। नए मेडिकल बिल में सरकार ने डिप्लोमा को खत्म कर सीधे डिग्री का प्रावधान कर दिया है। यानी अब केवल डिग्री कोर्स ही चलेंगे मेडिकल एजुकेशन में। लेकिन इन 70 हजार पेशेवर डिप्लोमा डॉक्टर्स पर कोई नीति नही बनाई इधर 75 नए मेडिकल कॉलेज खोलने की अधिसूचना जारी हो चुकी है और जो 80 कॉलेज हाल ही में मोदी सरकार ने खोले थे वहाँ फैकल्टीज की समस्या बनी हुई है।
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

सफलता क्लास ने सरकारी नौकरियों के लिए शुरू किया नया फाउंडेशन कोर्स
safalta

सफलता क्लास ने सरकारी नौकरियों के लिए शुरू किया नया फाउंडेशन कोर्स

इस काल भैरव जयंती पर कालभैरव मंदिर (दिल्ली) में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात : 19-नवंबर-2019
Astrology Services

इस काल भैरव जयंती पर कालभैरव मंदिर (दिल्ली) में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात : 19-नवंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Opinion

जीपीएस से जुड़ती जमीन

भूमि सुधार के बगैर आर्थिक सुधार संभव नहीं है, और इस मामले में उत्तर प्रदेश ने भूमि अभिलेखों के डिजिटलीकरण में जैसी लंबी छलांग लगाई है, वह दूसरे राज्यों के लिए अनुकरणीय है।

13 नवंबर 2019

विज्ञापन

सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ का बड़ा फैसला, 'CJI दफ्तर भी आरटीआई के दायरे में'

सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने बड़ा फैसला लिया है। सुप्रीम कोर्ट का दफ्तर आरटीआई के दायरे में होगा। आखिर कैसे लंबी लड़ाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने ये फैसला सुनाया। पूरा विश्लेषण इस रिपोर्ट में।

13 नवंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election