विज्ञापन
विज्ञापन

CISF:  वो हीरोज़ जिनसे रोज़ मिलते हैं लेकिन पहचान नहीं पाते

Arvind Kumar yadavअरविंद कुमार Updated Mon, 19 Aug 2019 03:09 PM IST
यह जवान हम सब की सुरक्षा की खातिर कई त्योहार क़ुर्बान करते हैं।
यह जवान हम सब की सुरक्षा की खातिर कई त्योहार क़ुर्बान करते हैं। - फोटो : PTI
ख़बर सुनें

ऑफिस के लिए जल्दी में निकला और मेट्रो परिसर में घुसते ही दोहरी सुरक्षा जांच से सामना हुआ। आमतौर पर जहां सीआईएसएफ का एक ही जवान चेकिंग करता था उस रोज़ वहां 2 जवान तैनात थे। इसकी वजह से यात्रियों की कतार भी काफी लंबी हो गई थी। मुझे ध्यान आया की स्वतंत्रता दिवस आने वाला है तो अगले कुछ दिन सुरक्षा का बंदोबस्त ऐसे ही रहेगा। जैसे-तैसे कर स्टेशन में  एंट्री पाई और मेट्रो पकड़ करऑफिस पहुंचा। वैसे तो दिल्ली मेट्रो में पिछले 8 सालों से सफर कर रहा हूं और हर त्योहार के आसपास ऐसी सिक्योरिटी का कई बार सामना किया है तो सोचा यह समय भी निकल जायेगा।

फिर 15 अगस्त को भी मेट्रो में सफर करने का मौका मिला। आश्रम से मेट्रो पकड़ कर दिल्ली हाट आईएनए  की तरफ जा रहा, त्योहार की वजह से भीड़ भी कम थी तो बैठने को सीट भी मिल गई। बगल में देखा तो एक CISF जवान बैठा था और फ़ोन पर व्यस्त था। वह शायद अपने घर पर बात कर रहा था और दूसरी तरफ उसकी बहन थी जो रक्षाबंधन के लिए घर पर आई थी और जवान बात सुनकर यही समझ आ रहा था की वह पूछ रही थी की भैया कब तक आओगे, और वह कह रहा था की ड्यूटी की वजह से वह देर रात ही घर वापस आएगा और राखी खुद ही बांध लेगा।

विज्ञापन
जवान का जवाब सुनकर मेरे अंतर्मन को एक चोट पहुंची की कहां मैं सुरक्षा जांच में कुछ देरी होने पर विचलित हो रहा था, वहीं यह जवान हम सब की सुरक्षा की खातिर अपना पूरा त्योहार क़ुर्बान कर रहा है। यह तो सिर्फ एक बानगी थी। इस जवान के बाकी त्योहार भी ऐसे ही निकल जाते होंगे। सिर्फ यही जवान नहीं बल्कि हर वह जवान जो हमारी सुरक्षा में लगता है, वह अपना हर त्यौहार और निजी जिंदगी के ऐसे कितने ही महत्वपूर्ण अवसर हम सब की सुरक्षा में लगा देता है ताकि हम महफूज़ रहें। जब वह जवान फ़ोन से फ्री हुआ तो मैंने उसे स्वतंत्रा दिवस की बधाई दी और धन्यवाद दिया हम सब की सुरक्षा के लिए हर पल तत्पर रहने के लिए। उस जवान ने एक हल्की -सी मुस्कान के साथ शुक्रिया अदा किया मेरी तारीफ के बदले।
 

विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय
Invertis university

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

जीएसटी की दरों में बड़ा बदलाव, जानें किस पर मिली राहत, किससे बढ़ेगा जेब पर बोझ

जीएसटी काउंसिल ने शुक्रवार शाम अर्थव्यवस्था की सुस्ती को दूर करने के लिए किये जा रहे उपायों की मांग के बीच कई वस्तुओं पर कर की दर में कटौती करने का एलान किया।

20 सितंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree