‘ब्लैक एंड व्हाइट’: क्या ये स्त्री संघर्ष की आत्मा की तस्वीरें हैं?

Ajay Bokilअजय बोकिल Updated Fri, 31 Jul 2020 12:01 PM IST
विज्ञापन
हाॅलीवुड, बाॅलीवुड समेत कई सेलेब्रिटी महिलाएं इसे नारी सशक्तीकरण का प्रतीक मानकर अपनी ब्लैक एंड व्हाइट तस्वीरें पोस्ट कर रही हैं- फाइल फोटो
हाॅलीवुड, बाॅलीवुड समेत कई सेलेब्रिटी महिलाएं इसे नारी सशक्तीकरण का प्रतीक मानकर अपनी ब्लैक एंड व्हाइट तस्वीरें पोस्ट कर रही हैं- फाइल फोटो - फोटो : सोशल मीडिया

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें

सार

ये सवाल मन में जरूर उठता है कि क्या ऐसे ‘ब्लैक एंड व्हाइट’ आंदोलन क्या महिला के जीवन में उजाला भर सकते हैं? या यह भी सेलेब्रिटीज की शोशेबाजी है अथवा एक अलग किस्म का नया पूंजीवादी शगल है? क्योंकि भारत जैसे देश में करोड़ों महिलाएं रोजाना जिस तरह के संघर्षं से गुजरती है, उसमें खुद का और अपने परिवार का वजूद बचाना ही उनकी पहली प्राथमिकता है।

विस्तार

शायद इसीलिए इसे ‘ब्लैक एंड व्हाइट’ कहते हैं। जहां एक दुनिया कोरोना वायरस से निपटने को लेकर हलकान है, वहीं दूसरी दुनिया ‘ब्लैक एंड व्हाइट’ चैलेंज स्वीकारने में व्यस्त है। #ब्लैक एंड व्हाइट चैलेंज’ इन दिनो इंस्टाग्राम और कुछ अन्य सोशल मीडिया साइट्स पर खासा पापुलर है। हाॅलीवुड, बाॅलीवुड समेत कई सेलेब्रिटी महिलाएं इसे नारी सशक्तीकरण का प्रतीक मानकर अपनी ब्लैक एंड व्हाइट तस्वीरें पोस्ट कर रही हैं।
विज्ञापन

ये ट्रेंड पूरी दुनिया में है और हमारे यहां भी कई नामी सेलेब्रिटी महिलाएं तथा अभिनेत्रियां अपनी काली सफेद तस्वीरें एक दूसरे को टैग और शेयर कर रही हैं। हालांकि श्वेत श्याम चित्रों का यह जश्न कुछ वैसा ही है कि जैसे तेरहवीं के माहौल में परोसी गई मिठाई। लेकिन यह एक नजरिया हो सकता है। दुनिया भर में महिलाओं के शोषण, अत्याचार की कहानियां बहुत मार्मिक और बहुस्तरीय हैं।
जीवन के हर पड़ाव पर उन्हें खुद को ‘प्रूव’ करके ही आगे बढ़ना होता है। महिला को पुरूष की रंगीनियत का हिस्सा भले माना जाता हो, लेकिन अधिकांश महिलाओं की जिंदगी बेरंग और ‘ब्लैक एंड व्हाइट’ ही होती है। लिहाजा  # ‘चैलेंज एक्सेप्टेड’ ( यानी चुनौती स्वीकार)  से दुनिया भर में अब तक महिलाओं ने अपनी 60 लाख से ज्यादा श्वेत श्याम तस्वीरें पोस्ट की हैं, कर रही हैं।

मानकर कि स्त्री अधिकारों  का संघर्ष अभी खत्म नहीं हुआ है। इस लिस्ट में दुनिया की कई जानी-मानी महिला हस्तियों के अलावा बाॅलीवुड की नई-पुरानी तारिकाओं जैसे सोनम कपूर, टीना अंबानी,करिश्मा कपूर, सारा अली खान, दिव्यांका त्रिपाठी, मीरा कपूर ( शाहिद कपूर की पत्नी) फैशन डिजाइनर अनीता श्राॅफ अदजानिया आदि शामिल हैं।

पूर्व हीरोइन और उद्योगपति अनिल अंबानी की पत्नी टीना अंबानी ने अपनी ‘ब्लैक एंड व्हाइट’ फोटो शेयर करते हुए  लिखा- आजकल चारों ओर निगेटिविटी है, ऐसे में खुद को पाॅजिटिव रखना होगा। वुमेन सपोर्ट वुमेन। एक दूसरे को नीचा गिराने और धक्का देने के बजाय चलो एक दूसरे को सपोर्ट करते हैं और उन्हें जोड़ते हैं। तो ये है एक दूसरे को तस्वीरों के जरिए सपोर्ट करने का सेलेब्रिटी सिस्टम। 

सवाल ये कि यह हैशटैग आया कहां से? वैसे इसकी शुरूआत तो 2016 में हुई थी। महिला पत्रकार रेचेल माॅस ने ‘हफ पोस्ट’ में अपनी रिपोर्ट में बताया है कि इस हैशटैग से तात्पर्य मोटिवेशन से है। ‘चैलेंज एक्सेप्टेड’ # से ‘ब्लैक एंड व्हाइट’ फोटो भेजने की शुरूआत दरअसल कैंसर जागरूकता के लिए हुई थी।

लेकिन वर्तमान ट्रेंड के पीछे कारण अमेरिकी सीनेट में रिपब्लिकन सांसद टेड योहो द्वारा सीनेट में अपने भाषण में डेमोक्रेट  महिला सांसद अलेक्जेंड्रिया ओकासियो काॅर्टेज को ‘कमबख्ते कुतिया’ कह देना था। इसे दुनिया भर की महिलाओं ने अपने अपमान के रूप में लिया और बदले में वुमेन एम्पावरमेंट का ‘ब्लैक एंड व्हाइट’ अभियान सोशल मीडिया पर छेड़ दिया।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

कई फोटोग्राफरों का मानना है कि असल और चुनौतीपूर्ण फोटोग्राफी तो ‘ब्लैक एंड व्हाइट’ ही है...

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us