Hindi News ›   City & states ›   kargil war hero parents lonely

बेटा शहीद होने के बाद बहू भी छोड़कर चली गई

Amarujala Local Bureau अमर उजाला लोकल ब्यूरो
Updated Sat, 25 Jul 2020 05:22 PM IST
कारगिल शहीद परविंदर के माता-पिता परविंदर की फोटो दिखाते हुए
कारगिल शहीद परविंदर के माता-पिता परविंदर की फोटो दिखाते हुए - फोटो : AMAR UJALA
विज्ञापन
ख़बर सुनें
उन्हानी के शहीद प्रविंद्र का नाम करगिल युद्ध में शहीद जांबाज जवानों में से एक है। प्रविंद्र ने देश सेवा के लिए अपनी मातृभूमि की रक्षा करते हुए प्राणों की आहुति दे दी। शहीद प्रविंद्र की शहादत के बाद उनके माता-पिता बेहद अकेले हो गए हैं। अकेला बेटा देश पर कुर्बान करने वाले यह माता- पिता दवाइयों के लिए भी मोहताज हो गए हैं। बीमार होने पर कोई देवा देने वाला तक नहीं। जिस घर में पौते पोतियों का शोरगुल गूंजना था अब वहां वीरानगी छाई है। प्रविंद्र की शहादत के बाद उसकी पत्नी भी छोड़कर चली गई। आंखों में आंसू लिए बुजुर्ग दंपति ने कहा बेटा नहीं हमारा तो पूरा परिवार ही शहीद हो गया। शहीद प्रविंद्र सिंह की मां संतरा ,पिता राजेंद्र सिंह ने बताया कि एक बेटा, दो बेटियां हुए। प्रविंद्र का जन्म एक अप्रैल 1977 में हुआ। वह बचपन से ही नटखट था। प्रविंद्र के पिता राजेंद्र ने कहा मैंने भी आर्मी में सेवाएं दी भी हैं। जब मैं छुट्टी आता था तब प्रविंद्र को सेना के बारे में बताया करता था। प्रविंद्र ने शुरुआती शिक्षा अपने नाना के घर से ली उसके बाद आठवीं नवीं कक्षा में कनीना में स्थित राजकीय स्कूल में पढ़ाई की। 1997 में दादरी बीआरओ की खुली भर्ती थी। उस खुली भर्ती में प्रविंद्र भर्ती के लिए गया। अपनी योग्यता के बल पर वह सेना में भर्ती हो गया। आर्मी में भर्ती होने पर प्रविंद्र बहुत खुश था। उसने अपने परिवार, दोस्तों, रिश्तेदारों में खूब मिठाइयां बांटी थी। दोनों बहन उर्मिला, मंजू को कहता था कि रक्षाबंधन आएगा तब आर्मी से छुट्टी लेकर आप लोगों के पास जरूर आऊंगा। भर्ती होने के बाद वह नासिक चला गया। उसे सेना में भर्ती हुए तकरीबन 2 वर्ष हो गए थे। तब वह 2 महीने की छुट्टी लेकर आया था। उसी वक्त उसकी शादी कर दी गई थी। तभी सेना से आर्डर आ गए कि प्रविंद्र की कारगिल युद्ध में ड्यूटी लगी है। प्रमेंद्र अपना बैग पैक करके सीधा ड्यूटी स्थल पहुंच गया। जाने से पहले कह कर गया था की मैं जल्दी ही लौट कर आऊंगा। बस हमें तो यह खबर मिली कि प्रविंद्र शहीद हो गया। बेटे के शहीद होने पर उसकी पत्नी अपने पिता के घर से केवल 1 दिन के लिए यहां पर आई थी। उसके बाद आज तक यहां कभी नहीं आई। उसकी पत्नी को एक पेट्रोल पंप भी मिला था। अब हमें पता चला है कि उसने दूसरी शादी कर ली उसके दो बच्चे भी हैं। हमारी देखरेख करने वाला यहां पर कोई नहीं है। प्रविंद्र की मां को पेंशन में 30 प्रतिशत मिलता है। बाकी सब कुछ सुख सुविधा उसकी पत्नी को मिलते हैं। हम लोग बुजुर्ग हैं कोर्ट कचहरी के चक्कर नहीं लगा सकते। प्रशासन -सरकार 15 अगस्त, 26 जनवरी पर भी शहीदों को याद नहीं करती। प्रशासन भी कभी शहीदों के परिजनों की सुध नहीं लेता।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00