Hindi News ›   City & states ›   Air pollution 7 to 8 % low ,due to lock down

सात से आठ गुना स्वच्छ हो गई हवा, अस्थमा के मरीजों को राहत

Amarujala Local Bureau अमर उजाला लोकल ब्यूरो
Updated Mon, 27 Apr 2020 10:35 PM IST
महेंद्रगढ़ शहर का चित्र
महेंद्रगढ़ शहर का चित्र - फोटो : AMAR UJALA
विज्ञापन
ख़बर सुनें
लॉकडाउन के दिनों में हवा सात से आठ गुना साफ हो गई है। जिले में क्रेशर जोन, वाहनों का आवागमन बंद होने के कारण हवा में शुद्धता आ गई है। अब साफ हवा के लिए आपको पहाड़ी जिलों में जाने की जरूरत नहीं है। आपके घर के चारों ओर फैली हवा ही शुद्ध हो चुकी है। पिछले साल 26 अप्रैल के दिन जिले में पीएम टू का स्तर औसतन 231 रिकार्ड किया गया। इस साल यह 34 पर दर्ज किया गया है। पिछले एक महीने से पूरा देश अपने घर में कैद होने को मजबूर है।सुरक्षा के लिए अपनाई जा रही यह मजबूरी बेहद जरूरी भी है। घर में बंद रहना , काम धंधे बंद हो जाना परेशानी पैदा करने वाला है पर इस बीच खुशी की बात यह है कि हम प्रदूषण कम हो गया है। कम भी इतना कि आप सोच भी नहीं सकते। शहर में अप्रैल माह में धूल उड़ती रहती थी। माधोगढ़ की पहाड़ी को आप अपनी छत से देख पा रहे हैं। दूर दूर तक का एरिया साफ नजर आ रहा है। कभी मन में आता था कि हम प्रदूषण के कारण मर रह रहे हैं। इस सोच में कुछ सकारात्मकता आई है। लोगों को समझ भी आया है कि वाहनों का कम प्रयोग कर व अपनी आवश्यकताएं कम कर हम किस तरह से शुद्ध हवा और पानी ले सकते हैं। महेंद्रगढ़ जिले में औद्योगिक ईकाइयां नहीं हैं। इस जिले में खनन का काम सबसे अधिक होता है। यहां 60 से अधिक क्रेशर जोन हैं। जिसमें पत्थर की पिसाई का काम होता है। इसके अलावा हजारों गाड़ियां रोजाना रोडी, डस्ट, पत्थर को यहां से लेकर प्रदेश के अलग अलग जिलों में पहुंचती है। राजस्थान को हरियाणा से जोड़ने का प्रमुख रोड भी इस जिले से गुजरता है। इस कारण यहां से 60 से 70 हजार वाहनों का आवागमन मुख्य सड़कों पर होता है। जिस कारण हवा का मिजाज बिगड़ता है।
जानिए कौन से रंग का क्या मतलब... आंकडा--- रंग--------अर्थ 0 से 50 गहरा हरा। अच्छा 51 से 100- हल्का हरा संतोष जनक 101 से 200---- पीला- रहने लायक 201 से 300-- ओरेंज - खराब 301 से 400-- लाल- खतरनाक 401 से आगे --गहरा लाल--अत्याधिक खतरनाक -गुणवत्ता मानक 26 अप्रैल वर्ष 2019- 26 अप्रैल 2020 पीएम 2.5 231 34 पीए 10 195 41 एनओ 2 5 0 एनएच 3 11 0 एसओ 2 7 4 सीओ 24 21 हवा में सबसे अधिक खतरनाक चीज पीएम 2.5 होता है। यह छोटे छोटे कण होते हैं। जो सांस के जरिए हमारे शरीर मे प्रवेश कर जाते हैं। इन पर कैमिकल लगे हों तो वह भी हमारे शरीर के अंदर पहुंच जाएंगे। जिससे कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं। पीएम 10 भी हमारे नाक से शरीर में पहुंच सकता है। इससे बड़े आकार के पारटीक्युलर शरीर में प्रवेश नहीं करते। महेंद्रगढ़- नारनौल रेतीला एरिया होने के कारण यहां पीएम 2.5 तथा पीएम 10 का स्तर सबसे अधिक रहता है। यहां औद्योगिक एरिया नहीं होने के चलते एनओ टू, एसओ टू,एनएच थ्री, सीओ की मात्रा सामान्य से काफी कम रहती है। यह शुद्ध हवा सभी के स्वास्थ्य के लिए अच्छी है। सोमवीर बजाड़, असिस्टेंट प्रोफेसर, हकेंविवि , महेंद्रगढ़
अस्थमा के मरीजों को सबसे अधिक राहत हवा में रेतीले कण होने के कारण महेंद्रगढ़, नारनौल में अस्थमा के मरीजों की संख्या अधिक है। अप्रैल महीने में फसल की कटाई-कढाई का काम होता है। इसके अलावा क्रशर जोन का काम भी तेजी से चलता है। जिसके चलते अस्थमा के मरीजों को इन दिनों काफी परेशानी होती है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00